Friday , October 7 2022

एसजीपीजीआई ने देश में पहली बार की ट्रांस-ओरल रोबोटिक थायराइडेक्टोमी

-एंडोक्राइन सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉ अमित अग्रवाल ने की सफल सर्जरी


सेहत टाइम्‍स
लखनऊ।
उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित संजय गांधी पीजीआई को अत्‍याधुनिक प्रक्रिया में ले जाने की कोशिश में जुटे निदेशक डॉ आरके धीमन के प्रयास से संस्‍थान ने एक बार फि‍र चिकित्‍सा जगत में अपना नाम रौशन किया है। संस्‍थान में देश की पहली ट्रांस ओरल रो‍बोटिक थायराइडेक्‍टोमी सफलतापूर्वक सम्‍पन्‍न हुई है। इस सर्जरी में पारम्‍परिक तरीके से गले में चीरा न लगा कर मुंह के रास्‍ते सर्जरी को अंजाम दिया गया। इस प्रक्रिया से गले में निशान नहीं पड़ेगा।


संस्‍थान द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार एंडोक्राइन सर्जरी विभाग के विभागाध्‍यक्ष और संस्‍थान में रोबोटिक सर्जरी कार्यक्रम के प्रभारी प्रो अमित अग्रवाल द्वारा 35 वर्षीय युवक की इस सर्जरी को अंजाम दिया गया। उन्‍होंने बताया कि दरअसल पारंपरिक ओपन थायरॉइड सर्जरी गर्दन में एक निशान छोड़ती है जिसे युवा महिलाओं, लड़कियों और लड़कों द्वारा पसंद नहीं किया जाता है।


उन्‍होंने बताया कि ट्रांस ओरल विधि में मुंह के माध्यम से ग्रंथि तक पहुंचना और निकालना शामिल है, इसलिए शरीर में कोई निशान नहीं है। यह निशान रहित सर्जरी है। सर्जिकल टीम में डॉ. अमित अग्रवाल, डॉ. एस. डब्बास, डॉ. विक्रम, डॉ. युवराज देवगन शामिल थे। एनेस्थीसिया टीम का नेतृत्व डॉ. कपिल, डॉ संचित और डॉ अभिषेक के साथ डॉ. डॉ. सुजीत कुमार, अतिरिक्त प्रोफेसर, एनेस्थीसिया ने किया। संस्‍थान ने कहा है कि हमारी जानकारी के अनुसार यह प्रक्रिया हमारे देश में पहली बार की गई है।


रोबोटिक कार्यक्रम के बहुत समर्थक रहे डॉ. आर.के. धीमन ने इस उपलब्धि के लिए डॉक्टरों की टीम को बधाई दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

nineteen − ten =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.