Tuesday , November 30 2021

हम ऐसे शिक्षित हुए कि कक्षा एक की शिक्षा भूल गये

-कोरोना वापसी का मुख्‍य कारण स्‍वास्‍थ्‍य के सामान्‍य नियमों का भूलना

ज्योति बाबा

लखनऊ/कानपुरl शिक्षा का स्तर पूर्व में इतना न होने के बावजूद लोग जन सामान्य के नियम और कायदों का पालन आज से काफी ज्यादा करते थे लेकिन आज तो शिक्षित कहलाने वाले 21वीं सदी के नागरिक सड़कों पर यहां-वहां थूकने के साथ सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान कर लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने के साथ स्वच्छता अभियान की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

यह बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वावधान में नशा हटाओ स्वच्छता लाओ कोरोना मिटाओ बेटी बचाओ अभियान के तहत दनादन शिव मंदिर प्रांगण में आयोजित ई स्वास्थ्य परिचर्चा में अंतर्राष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही, ज्योति बाबा ने आगे कहा कि कोरोना के वापसी करने में मुख्य कारण हमारा स्वास्थ्य के सामान्य नियमों का भूलना है जैसे दो गज की दूरी, मास्क न पहनना व स्वयं के फैलाए प्रदूषण पर नियंत्रण न रख पाना प्रमुख है सबसे आश्चर्य की बात तो यह है कि कक्षा एक से हमें हाथ धोकर भोजन करना, मुंह साफ रखना, घर और बाहर स्वच्छता के बारे में जानकारी के साथ मास्क पहनना इत्यादि सिखाया गया, लेकिन हम इतने शिक्षित हो गए कि हम उसे भी भूल गएl

उन्‍होंने कहा कि हमें इंद्र देवता का शुक्रगुजार होना चाहिए जो उन्होंने दीपावली से उत्पन्न पटाखे के वायु प्रदूषण को निर्मल जल से धो डाला और ए क्यू आई जहां 500 से ऊपर दिख रही थी वह 100 के नीचे आ गई, जिससे बच्चों और बुजुर्गों को बड़ा स्वास्थ्य लाभ हुआ है बाबा ने आमजन से अनुरोध किया कि वे अपने स्तर पर प्रदूषण को कम रखने के प्रयास को तीव्र करते हुए सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान व पान मसाले की पीक को जगह-जगह न थूककर कोरोना को काफी हद तक रोक सकते हैंl ई स्वास्थ्य परिचर्चा का संचालन संजीव गुरु ने, धन्यवाद समाज चिंतक राकेश चौरसिया ने दिया, अन्य भाग लेने वाले लोगों में प्रमुख अजय शर्मा एडवोकेट सुभाष त्रिपाठी एडवोकेट आलोक मेहरोत्रा अशोक भारती, स्वामी गीता आदि थे।