Wednesday , December 1 2021

अस्‍पतालों के संविदा कर्मियों के समर्थन में आया राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद

सरकार से तत्काल आउट सोर्सिंग की नीति प्रख्यापित करने की मांग

 

लखनऊ। विभिन्‍न अस्‍पतालों में संविदा पर कार्य कर रहे कर्मचारियों के समर्थन में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद आ गया है। परिषद के महामंत्री अतुल मिश्रा, प्रमुख उपाध्यक्ष सुनील यादव ने सरकार से तत्काल आउट सोर्सिंग की नीति प्रख्यापित करने की मांग की है जिससे युवा कर्मियों का भविष्य सुरक्षित रहे। आपको बता दें कि पीड़ित संविदा कर्मियों का दुख यह है कि उन्‍हें भूतकाल, वर्तमान और भविष्‍यकाल तीनों की चिंता सता रही है, यही नहीं ऊपर से होली के त्‍यौहार में पैसे की कंगाली कुछ ज्‍यादा ही दर्द दे रही है।

 

आपको बता दें कि यूं तो यूपीएचएसएसपी के तहत आने वाले सभी संविदा कर्मियों की सेवायें 31 मार्च को समाप्‍त हो रही हैं, जिसकी पीड़ा से कर्मचारी गुजर रहे हैं, भविष्‍य अधर में है। इसी के साथ राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मिशन के तहत ई हॉस्पिटल के लिए रखे गये उन संविदा कर्मियों की दिक्‍कत थोड़ी और ज्‍यादा है, जो सेवा प्रदाता कम्‍पनी सिल्‍वर टच के माध्‍यम से कार्य रहे हैं। दरअसल इस कम्‍पनी की सेवायें सरकार द्वारा 31 मार्च के बाद से समाप्‍त करने का पत्र जारी हो चुका है। इन कर्मचारियों का कहना यह है कि कर्मचारियों की जनवरी माह की सैलरी जो सिल्वर टच से मिलनी थी वो अभी तक नहीं आयी है।

 

इन कर्मचारियों का कहना है कि 31-03-2019 के बाद से उनके भविष्य का क्या फैसला होगा। अगर सेवाएं नहीं बढ़ायी जायेगी तो 11-02-2019 से 31-03-2019 तक की सैलरी कौन देगा।

 

कर्मचारियों का कहना है कि हम लोगो से ये भी कहा गया है कि दूसरी नयी कम्पनी आयेगी और नये लोग काम करेंगे। हमें हटाने का क्या तर्क हैं, जबकि हम लोग शुरू से पूरी मेहनत से काम कर रहे हैं। कभी भी अस्पताल परिसर मे किसी बड़े अधिकारी को शिकायत का मौका तक नहीं दिया,तो हम लोगों के साथ ऐसा व्यवहार क्यों किया जा रहा हैं।