Wednesday , July 6 2022

सर्वांगीण स्वास्थ्य के प्रबंधन में योग आज भी कारगर

-बलरामपुर चिकित्सालय में धूमधाम से मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

सेहत टाइम्स
लखनऊ।
बलरामपुर चिकित्सालय लखनऊ के निदेशक डॉ. रमेश गोयल ने कहा है कि योग भारत की प्राचीन धरोहर है, जिसके नियमित अभ्यास से भारतीय ऋषि-मुनि एवं साधकगण स्वस्थमय लंबी आयु जिया करते थे।

बलरामपुर चिकित्सालय में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आयोजित योगाभ्यास के मौके पर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की इस वर्ष की थीम ‘मानवता के लिए योग’ विषय पर चर्चा करते हुए निदेशक ने कहा कि वर्तमान समय में बिगड़ती जीवन शैली एवं बढ़ती बीमारियों ने एक बार पुन: अपनी प्राचीन चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विधा योग की तरफ लोगों का ध्यान आकर्षित किया है, उन्होंने कहा कि वास्तव में योग सर्वांगीण स्वास्थ्य के प्रबंधन में आज भी कारगर है।


बलरामपुर अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी. गुप्ता ने कहा कि वैश्विक स्तर पर आम जनता ने योग को स्वीकार किया है, योग की महत्ता को देखते हुए बलरामपुर चिकित्सालय एलोपैथी के साथ-साथ आयुष चिकित्सा पद्धति योग को बढ़ावा देने में अब पीछे नहीं रहेगा। , बलरामपुर चिकित्सालय प्रशासन ने निर्णय लिया है कि चिकित्सालय के सभी प्रशासनिक अधिकारी, चिकित्सकगण, फार्मासिस्ट, नर्सिंग स्टाफ एवं अन्य कर्मचारियों को शिफ्ट वाइज चिकित्सकीय दृष्टि से योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि सभी लोग स्वास्थ्य के प्रति स्वावलंबी हो सके।
चिकित्सा अधीक्षक डॉ. हिमांशु चतुर्वेदी ने बताया कि योग की शोधन क्रियायें शरीर एवं मस्तिष्क का शोधन करती हैं, योगासन से शरीर सुदृढ़, प्राणायाम एवं ध्यान के अभ्यास से चित् एकाग्र एवं इम्यूनिटी बढ़ती है। इसलिए योग चिकित्सक से प्रशिक्षण लेकर सभी को नियमित योगाभ्यास करना चाहिए।

निदेशक डॉ. रमेश गोयल, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी.गुप्ता, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. हिमांशु चतुर्वेदी, कंसलटेंट डॉ. विष्णु कुमार, कंसलटेंट डॉ.आनंद कुमार गुप्ता एवं अन्य चिकित्सक गण, स्कूल ऑफ नर्सिंग बलरामपुर चिकित्सालय की प्रधानाचार्य बीना, मिनिस्टीरियल स्टाफ, नर्सिंग स्टाफ, प्रशिक्षणरत कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर, फार्मासिस्ट एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों ने योग विशेषज्ञ डॉ. नंदलाल जिज्ञासु के निर्देशन में सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल अनुसार योगाभ्यास कर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर्षोउल्लास के साथ मनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen + four =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.