100 दिन कोविड ड्यूटी करने वाले स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को नौकरी में मिलेगी प्राथमिकता

-बी एससी/जीएनएम योग्‍य नर्सों को पूर्णकालिक कोविड-19 नर्सिंग ड्यूटी में तैनात किया जायेगा

-प्रधानमंत्री की अध्‍यक्षता में समीक्षा समि‍ति ने लिये कई फैसले

-मानव संसाधनों को बढ़ाने की दिशा में लिया गया फैसला

लखनऊ/नयी दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि कोरोना मरीजों की सेवा में लगे सभी स्वास्थ्य कर्मियों को सरकार की बीमा योजना के तहत कवर किया जाएगा, साथ ही कोविड ड्यूटी के 100 दिन पूरे करने वाले छात्रों को भारत सरकार की ओर से प्रधानमंत्री कोविड राष्ट्रीय सेवा सम्मान दिया जाएगा तथा उन्हें नियमित सरकारी भर्तियों में भी प्राथमिकता दी जाएगी। नीट परीक्षा को चार माह के लिए स्‍थगित कर दिया गया है। इसके अतिरिक्‍त बी एससी/जीएनएम योग्‍य नर्सों को वरिष्‍ठ डॉक्‍टरों व नर्सों की देखरेख में पूर्णकालिक कोविड-19 नर्सिंग ड्यूटी में तैनात किया जायेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह निर्णय प्रधानमंत्री की अध्यक्षता ने सोमवार को हुई समीक्षा समिति की बैठक में लिया गया। कोरोना महामारी से लड़ने के लिए मानव शक्ति को और बढ़ाने पर समिति ने कहा कि एमबीबीएस अंतिम वर्ष के छात्रों की सेवाओं का उपयोग टेली परामर्श जैसी सेवाएं प्रदान करने और हल्के कोविड मामलों की निगरानी के लिए किया जा सकता है। बैठक में नीट पीजी को कम से कम 4 महीने के लिए स्थगित करने का निर्णय लिया गया समिति का कहना था कि परीक्षा 31 अगस्त से पहले आयोजित नहीं की जाएगी। यही नहीं परीक्षा आयोजित होने से पहले उम्मीदवारों को कम से कम 1 महीने का नोटिस दिया जाएगा। समिति का मानना है कि इस निर्णय से कॉलेज के की ड्यूटी कोविड में ड्यूटी के लिए बड़ी संख्या में योग्य चिकित्सक उपलब्ध हो सकेंगे।

प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली समिति ने यह भी कहा कि मेडिकल छात्रों और ऐसी ड्यूटी में लगे कर्मियों का कोरोना टीकाकरण भी कराया जाएगा।