Sunday , December 4 2022

दमनकारी नीति किसी हालत में बर्दाश्‍त नहीं करेंगे कर्मचारी

-पांचवें दिन भी जारी रहा मिनिस्ट्रियल संवर्ग का धरना, कार्य ठप

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। आज 24 जुलाई को यू0पी0 मेडिकल एण्ड पब्लिक हेल्थ मिनिस्ट्रि‍यल एसोसिएशन की जनपद शाखा द्वारा निदेशक (प्रशासन), स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय द्वारा द्वेषपूर्ण ढ़ंग से मिनीस्ट्रियल संवर्ग के कर्मचारियों के आर्थिक, मानसिक एवं शारीरिक शोषण के उद्देश्य से अनियमित एंव अमानवीय स्थानांतरण किये जाने के विरोध मे लगातार 5वें दिन भी संघ की प्रान्तीय कार्यकारणी के आह्वान पर जनपद अध्यक्ष अखिलेश श्रीवास्तव एवं जनपद मंत्री रजनी शुक्ला के नेतृत्व मे जनपद लखनऊ के स्वास्थ्य सेवा संवर्ग मे कार्यरत लखनऊ के सभी यूनिटों पर कार्यरत लिपिक संवर्गीय कर्मचारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, लखनऊ के कार्यालय पर उपस्थित रहकर अपने शासकीय कार्यो का बहिष्कार किया गया।

अखिलेश श्रीवास्‍तव ने बताया कि जपनद शाखा के सभी सदस्यों द्वारा अनियमित ढ़ंग से शासन के कार्मिक विभाग द्वारा मुख्यमंत्री की मंशा के विपरीत लिपिक संवर्गीय निम्न आय वर्ग के कर्मियों को 700 से 1000 किलोमीटर की दूरी तक स्थानांतरित कर उनके शोषण की कार्यवाही की जा रही है, पर रोष व्यक्त किया गया। संबंधित कर्मचारियो द्वारा अनियमित ढंग से मुख्यमंत्री द्वारा अनुमोदित स्थानांतरण नीति का उल्लंघन करते हुए किये गये स्थानांतरणों को निरस्त करने की मांग की गयी।

संघ के सदस्यों द्वारा दिव्यांगों तथा जो असाध्य रोग से ग्रसित हैं, उनके स्थानांतरण तत्काल निरस्त करने की मांग की गयी। संघ द्वारा यह भी मांग की गयी कि ऐसे सदस्य जिनके चतुर्थ श्रेणी संवर्ग से प्रोन्नति के उपरान्त जनपद में तैनाती को दो से तीन वर्ष भी पूर्ण नहीं किये गये हैं, के स्थानांतरण अनियमित रूप से किये गये हैं, को तत्काल निरस्त किया जाये।

निदेशक (प्रशासन) द्वारा जो तीन स्थानांतरण सूची जारी की गयी हैं उनमे इतकी कर्मियं व्याप्त हैं कि निदेशक (प्रशासन) संबंधित सूचियों को संशोधित करने हेतु स्वयं बाध्य हैं, को तत्काल निरस्त कर दिये जायें तथा नये सिरे से संवर्ग के कर्मियों से उनके ऐच्छिक जनपदों का विकल्प प्राप्त कर संशोधित रूप से स्थानांतरण सूची जारी की जाये।

कोविड-19 की महामारी को दृष्टिगत रखते जब प्रधानमंत्री हम सभी को बार-बार निर्देशित कर रहे हैं कि अनावश्यक रूप से घरों से बाहर न निकलें ऐसी दशा मे निदेशक (प्रशासन), चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाओें द्वारा अमानवीय रूप से मिनिस्ट्रयल संवर्ग के कर्मचारियों को अपने घर परिवार को छोड़कर दूरस्थ जनपदों मे जाने हेतु बाध्य किया जा है, किसी भी दशा मे स्वीकार करने योग्य नहीं है।

संघ के प्रान्तीय महामंत्री कुंवर हीरेश शरण सक्सेना द्वारा कर्मचारियों के उत्पीड़न के विरोध मे संघ की कार्यवाही को यथावत् जारी रखने के निर्देश दिये गये हैं। कुंवर हीरेश शरण सक्सेना द्वारा कहा गया कि शासन प्रशासन की दमनकारी नीतियों को किसी भी दशा मे स्वीकार नहीं किया जायेगा तथा उसका विरोध हर स्तर पर किया जायेगा।

जनपदीय अध्यक्ष अखिलेश श्रीवास्तव द्वारा अवगत कराया गया कि प्रान्तीय नेतृत्व के आह्वान पर सम्पूर्ण प्रदेश के मिनीस्ट्रियल संवर्ग के कर्मचारियों द्वारा 26 जुलाई को स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय का घेराव किया जायेगा तथा उसके बाद मुख्यमंत्री कार्यालय, लोक भवन तक पैदल मार्च कर उन्हें ज्ञापन प्रस्तुत किया जायेगा।

सरकार द्वारा यदि संबंधित स्थानांतरण सूचियों को निरस्त नहीं किया जाता है तो संघ द्वारा अपना आन्दोलन प्रान्तीय कार्यकारणी के निर्देशानुसार जारी रखा जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 × five =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.