Tuesday , June 18 2024

फैटी लिवर से बचाव और छुटकारा पाने में योग की भूमिका महत्वपूर्ण

-फैटी लिवर से बचाव के लिए योग की भूमिका पर कार्यक्रम आयोजित

सेहत टाइम्स

लखनऊ। फैटी लिवर की समस्या से निजात पाने के लिए योगाभ्यास बहुत फायदेमंद है। नियमित रूप से कुछ योगासनों का अभ्यास करने से लिवर को मजबूत बनाने के साथ-साथ फैटी लिवर की समस्या को दूर करने में मदद मिल सकती है।

यह बात रविवार 9 जून को अंतरराष्ट्रीय योगा दिवस के मौके पर होने वाले कार्यक्रमों के क्रम में निराला पार्क, उन्नाव में हर्बल अड्डा की तरफ से आयोजित कार्यकम में फैटी लिवर से बचाव के लिए योग की भूमिका विषय पर अपने सम्बोधन में योगाचार्य श्वेता मिश्रा ने कही।

यह जानकारी देते हुए हर्बल अड्डा के फाउंडर डॉक्टर आई एम तब्बाब ने बताया कि दरअसल गलत खानपान और खराब जीवनशैली के कारण आजकल लोगों को कई तरह की गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। फैटी लिवर की समस्या भी इनमें से एक है। दरअसल, जब लिवर की कोशिकाओं में 5 प्रतिशत से ज्यादा मात्रा में फैट इकट्ठा हो जाता है तो इससे फैटी लिवर की समस्या होती है। इसके कारण लिवर में सूजन, पेट दर्द, अपच, कब्ज, पेट साफ न होना,पैरों में सूजन, भूख न लगना, वजन कम होना और थकान जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अगर इसका समय पर इलाज न किया जाए, लिवर डैमेज के कारण जान भी जा सकती है। अगर मरीज साथ में अल्कोहल का सेवन करता है तो लिवर की खराबी बहुत तेजी से होती है। फैटी लिवर से आगे चलकर ब्लड प्रेशर, मधुमेह, हार्ट ब्लॉकेज, जोड़ों की समस्या मोटापा, पीसीओडी आदि की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

डॉक्टर बुशरान सलीम ने बताया कि इसको करेक्ट करने के लिए अपने खान पान में आलू, चावल, चीनी, मैदा और मसाले का सेवन बंद करना चाहिए। डॉक्टर आयशा शकील ने जोड़ो के दर्द के विषय में कुछ टिप्स दिए साथ में ही

अंत में कार्यक्रम का संयोजन कर रहे एडवोकेट नागेंद्र त्रिवेदी और प्रोग्राम की अध्यक्षता कर रहे पूर्व चिकित्सा अधिकारी अनिल कुमार त्रिपाठी ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.