Wednesday , May 18 2022

वेतन व भत्‍ते मिलाकर तय होगा फार्मासिस्‍टों का मानदेय

फार्मासिस्टों के कई मामलों पर मिशन निदेशक से चर्चा में बनी सहमति

 

लखनऊ। राजकीय फार्मासिस्ट महासंघ के बैनर तले उत्तर प्रदेश संविदा फार्मासिस्ट संगठन का प्रतिनिधि मंडल राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के मिशन निदेशक पंकज कुमार से मिला और फार्मासिस्टों के मानदेय की समीक्षा करने के मामले पर चर्चा की।

 

प्रतिनिधिमंडल ने एनएचएम के मिशन निदेशक को फार्मासिस्टों के मानदेय के राजस्थान और मध्यप्रदेश के आंकड़े दिए। चर्चा के बाद प्रतिनिधिमंडल की मांगों को मानते हुए राजस्थान और मध्यप्रदेश के आधार पर फार्मासिस्टों के नए मानदेय तय करने, नियमित के मूल वेतन एवं डीए पर सैद्धान्तिक सहमति भी बनी।

 

यह भी तय हुआ कि राज्य सरकार द्वारा आउटसोर्सिंग व संविदा के लिए बनने वाली नीति के अनुसार मानदेय निर्धारित किये जायेंगे, एवं नीति प्रख्यापित होने तक मानदेय उच्चीकरण का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा जाएगा ।

 

यह भी मांग की गई कि जिन शहरी चिकित्सालयो में 2 शिफ्ट ओपीडी संचालन हो रहा है वहां पद बढ़ाये जाएं, इस बिंदु पर अगली पीआईपी में प्रस्ताव भेजने का निर्णय हुआ। प्रतिनिधि मंडल में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के महामंत्री अतुल मिश्र, राजकीय फार्मासिस्ट महासंघ के अध्यक्ष सुनील यादव, संविदा फार्मासिस्ट एसोसिएसन के अध्यक्ष प्रवीण यादव, संरक्षक व डिप्लोमा फार्मासिस्ट असोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष जे. पी नायक, प्रदेश प्रवक्ता सचिन यादव, महामंत्री सुरेन्द्र पटेल आदि सम्मिलित थे ।