Monday , October 25 2021

छात्र-छात्राओं के जीवन में आमूल-चूल परिवर्तन ला सकते हैं ऋषि के विचार

गायत्री ज्ञान मंदिर के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान का 307वां सेट जीएसटी ग्‍लोबल स्‍कूल में स्‍थापित

लखनऊ। गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर, लखनऊ के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत जी.एस.टी.ग्लोबल स्कूल, प्यारेपुर हरचन्दपुर रायबरेली के पुस्तकालय में गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 78 खण्डों का वांड़मय साहित्य की स्थापित किया गया। स्‍थापना अभियान का यह 307वां सेट है।

यह जानकारी देते हुए अभियान के मुख्‍य संयोजक उमानंद शर्मा ने बताया कि यह वांग्‍मय साहित्य गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट, गायत्री ज्ञान मंदिर इन्दिरा नगर के सक्रिय कार्यकत्री सुश्री रत्ना डे ने अपनी पूज्य माता स्व.दुलाली डे की स्मृति में संस्थान को भेंट किया साथ-साथ सुश्री रत्ना डे ने छात्र-छात्राओं को पाकेट बुक ‘‘सफल जीवन की दिशा धारा’’ एवं सभी शिक्षक/शिक्षिकाओं एक-एक अखण्ड ज्योति पत्रिका भेंट की। 

इस अवसर पर उमानंद शर्मा ने वांग्‍मय साहित्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि अपने पूर्वजों की स्मृति में किया जाने वाला ज्ञानदान एक श्रेष्ठ कार्य है। ऋषि साहित्य छात्र-छात्राओं को नैतिक शिक्षा प्रदान करता है।

कार्यक्रम में वरिष्ठ शिक्षाविद् राम उजागर शुक्ल ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि ऋषि के विचार छात्र-छात्राओं के जीवन में आमूल-चूल परिवर्तन ला सकता है। संस्थान के चेयरमैन मनोज त्रिपाठी ने संस्थान को ऋषि वांग्‍मय भेंट किये जाने पर गायत्री परिवार के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की।

इस अवसर पर वांग्‍मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा, मनोज त्रिपाठी, राम उजागर शुक्ला, अनिल भटनागर सुश्री रत्ना डे, सरित घोष, राजेश मिश्रा, डॉ0 प्रेम प्रकाश, मनीष सिंह सहित संस्थान के सभी शिक्षक/शिक्षिकायें एवं छात्र-छात्रायें मौजूद थे।