Thursday , December 2 2021

मरीज के कपड़े बदलवाते सरकारी चिकित्‍सक का वीडियो वायरल, लोगों ने कहा, वाह…

-थोड़ा हटकर है लखनऊ का लोकबंधु हॉस्पिटल, दवा व सेवा के साथ संगीत सुनते हैं मरीज

-मुख्‍य चिकित्‍सा अधीक्षक ने कहा, सकारात्‍मक ऊर्जा के लिए इस तरह के प्रयास बहुत कारगर

डॉ ए एस त्रिपाठी

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। सामान्यत: सरकारी अस्पतालों की छवि मरीजों के प्रति लापरवाही करने, ध्यान न देने जैसी बनी होती है लेकिन हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, जरूरी नहीं है कि हर बार सिक्के का एक ही पहलू दिखाई दे। राजधानी लखनऊ स्थित लोक बंधु अस्पताल में भर्ती कोविड के मरीज को चिकित्सक और ओटी टेक्निशियन द्वारा मरीज के कपड़े बदलवाने में सहायता करने का वीडियो वायरल हो रहा है।

इस बारे में अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर ए एस त्रिपाठी से जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया की एक बुजुर्ग करीब 8 दिन से लोक बंधु अस्पताल में भर्ती हैं, मरीज के आगे पीछे कोई नहीं है आज जब मरीज का कुर्ता गंदा हो गया था तो अस्पताल के ड्यूटी डॉक्टर नीरज शुक्ला ने मरीज के कपड़े देखें और फिर स्वयं ही उसे बदलवाने का फैसला किया, उनके इस मानवीय पहलू से भरे कार्य में उनका साथ दिया अस्पताल के ओटी टेक्निशियन जयशंकर ने। दोनों ने मिलकर मरीज का कुर्ता पायजामा बदलवाया। उन्‍होंने बताया कि डॉ शुक्‍ला ने न सिर्फ मरीज को कपड़े पहनाये बल्कि साथ में खाना भी खिलाया।

डॉ त्रिपाठी बताते हैं कि‍ हमारी कोशिश मरीज को दवाओं के साथ साथ अपनेपन का एहसास दिलाते हुए उपचार की रहती है, उन्होंने बताया की इसी क्रम में पिछले दिनों उन्होंने वार्ड के बाहर गलियारे में स्पीकर लगवाए हैं जिनमें भक्ति से जुड़ा संगीत बजता है। उन्‍होंने बताया कि इन स्पीकर्स का माइक मेरे कमरे में है जहां से मैं बीच-बीच में मरीज के लिए मददगार बातों जैसे साफ-सफाई का ध्‍यान रखने आदि की बातों का प्रसारण करता रहता हूं। इसी माइक से अपने स्‍टाफ से अगर कुछ कहना है तो कह देता हूं।

उन्होंने बताया कि संगीत में वह शक्ति है जो मनुष्य को सकारात्मक रखने में सहायक है खासतौर से कोरोना जैसी बीमारी से जूझ रहे इन मरीजों के अंदर निराशा के भाव न उभरें, इसमें संगीत का बहुत बड़ा योगदान है। उन्होंने बताया कि इस सुविधा के शुरू होने के बाद से माहौल में काफी फर्क देखा जा रहा है मरीजों के चेहरे पर पहले जैसे तनाव की रेखाएं नहीं दिखाई देती हैं। उन्होंने मरीज की सेवा करने वाले चिकित्‍सक, ओटी टेक्नीशियन की प्रशंसा करते हुए अन्य उन सभी कर्मियों की प्रशंसा की जो कहीं न कहीं पूरे मनोयोग से मरीजों की सेवा में लगे हुए हैं।

देखिये वीडियो