योजनाएं हैं, पैसा है लेकिन उससे लाभ लेने की तरकीब नहीं पता है लोगों को

ये योजनाएं आम आदमी को कैसे समझायें, इस पर होगा 27 को विचार

 

लखनऊ। वित्तीय मामलों मे लोगो की समझ बढ़े ताकि वे सरकार द्वारा दी जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ प्रभावी रूप से प्राप्त कर सकें, इसके लिए एक संगोष्‍ठी का आयोजन 27 अक्‍टूबर को यहां किया जा रहा है। संगोष्ठी का उद्देश्य “वित्तीय साक्षरता द्वारा वित्तीय समावेशन” है।

 

मिली जानकारी के अनुसार लखनऊ मैनेजमेंट असोशिएशन एवं एवोक इंडिया फ़ाउंडेशन द्वारा इस इंडिया वित्तीय साक्षारता संगोष्ठी एवं वार्षिक समारोह का आयोजन जयपुरिया मैनेजमेंट संस्थान के सभागार में किया जा रहा है। समारोह का उदघाटन मुख्य अतिथि  राज्यपाल उत्तर प्रदेश राम नाईक करेंगे तथा अध्यक्षता मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश अनूप चन्द्र पांडे करेंगे।

 

कार्यक्रम के अंतर्गत वित्तीय साक्षरता एवं समावेशन के  क्षेत्र में उत्‍कृष्ट कार्य करने वाली विभूतियों एवंसंस्थानो को “एवोक इंडिया – क्रिसिल फ़िनन्शियल लिटेरसी लीडरशिप अवार्ड्स” एवं एल एम ए द्वारा वार्षिक पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे।

 

बताया गया है कि इसका उद्देश्‍य है कि वित्तीय मामलों मे लोगो की समझ बढ़े ताकि वे सरकार द्वारा दी जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ प्रभावी रूप से प्राप्त कर सकें और अपनी तथा देश की आर्थिक प्रगति में सहायक सिद्ध हो सकें। उदाहरण के लिए देश में लगभग 32.8 करोड़ जन धन खातों मे से वित्तीय जागरूकता न होने के कारण लगभग 48% निष्क्रिय हैं। तकनीकसत्रों मे  देश भर के  वित्तीय संस्थानो  के विषय विशेषज्ञ  भाग लेंगे जैसे सेबी, एचडीएफ़सी बैंक ,बीएसई , एनआईएसएम , एनसीएफ़ई,  पीएफ़आरडीए  आदि। इस संगोष्‍ठी में तीन विभिन्न विषयों पर सत्रों का आयोजन किया जाएगा। इनमें पहला ‘डिजिटल इंडिया व वित्तीय समावेशन’, दूसरा है ‘वित्तीय समावेशन के लिए कृषि संबन्धित उद्योगों को बढ़ावा’ तथा तीसरा विषय ‘वित्तीय साक्षरता द्वारा वित्तीय समावेशन के लिए क्रियान्वयन रोडमैप’ है।