Tuesday , May 21 2024

कर्मचारी-शिक्षक संयुक्‍त मोर्चा ने स्‍थगित किया अपना आंदोलन

-कोरोना महामारी से उत्‍पन्‍न स्थिति को देखते हुए लिया गया निर्णय
वी पी मिश्र

लखनऊ। वैश्विक महामारी कोरोना को देखते हुए कर्मचारी-शिक्षक संयुक्त मोर्चा उ प्र ने 20 अप्रैल से प्रस्तावित सभी आंदोलन कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया है।

यह निर्णय आज कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा उ प्र के पदाधिकारियों की वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा संपन्न हुई बैठक में सर्वसम्मति से लिया गया। बैठक में मोर्चा के अध्यक्ष वी पी मिश्र, महासचिव शशि कुमार मिश्रा, उपाध्यक्ष गिरीश मिश्रा, उपाध्यक्ष के के सचान, उपाध्यक्ष सुनील यादव, अशोक कुमार, अमरनाथ सिंह, अवधेश सिंह, नन्द किशोर मिश्रा आदि पदाधिकारी शामिल हुए।

निर्णय की जानकारी देते हुए कर्मचारी-शिक्षक संयुक्त मोर्चा उ प्र के अध्यक्ष वी पी मिश्र ने बताया कि प्रांतीय कार्यकारिणी द्वारा पुरानी पेंशन बहाली, वेतन विसंगति दूर करने, भत्तो की समानता सहित मुख्य सचिव के साथ हुए समझौतों पर कार्यवाही की मांग को लेकर 20, 21 अप्रैल को काला फीता, 22 अप्रैल को जनपदों में मोटरसाइकिल रैली तथा 23 व 24 अप्रैल को प्रदेशव्यापी कार्य बहिष्कार का निर्णय लिया गया था।

हालांकि मोर्चा ने इस बात पर चिंता व्यक्त की कि शासन द्वारा मांगों पर सकारात्मक निर्णय नहीं लिए गए। लेकिन प्रदेश में इस संकट काल मे प्रदेश का हर कर्मचारी सरकार और जनता के साथ खड़ा है, अतः आंदोलन का औचित्य नहीं है। स्थिति सामान्य होने पर कर्मचारी-शिक्षक संयुक्त मोर्चा उ प्र की बैठक में अगला निर्णय लिया जाएगा ।

मोर्चा ने आज इस बात पर भी चिंता व्यक्त की कि प्रदेश के अधिकांश जनपदों में चिकित्सा कर्मियों के साथ दुर्व्यवहार की शिकायतें प्राप्त हो रही हैं, जिसमें चिकित्सक सहित कई अन्य कर्मचारी गंभीर रूप से घायल हो गए हैं, जो नितांत चिंताजनक है।

कर्मचारी इस संकटकाल में जनता को इस रोग से बचाने के लिए पूरे मनोयोग से कार्य कर रहा है हर कर्मचारी जनता के साथ है और सरकार के प्रत्येक निर्देशों का पालन करने को तत्पर है।