टीबी मुक्त भारत अभियान की सफलता के लिए जनता का सहयोग जरूरी

लखनऊ-वाराणसी को टीबी मुक्‍त बनाने के अभियान की शुरुआात धनवंतरि जयंती समारोह से हुई

लखनऊ, 2 नवम्बर। धनवंतरि जयंती के अवसर पर यहां बलरामपुर अस्‍पताल में एक समारोह का आयोजन किया गया, इस अवसर पर टीबी मुक्‍त भारत बनाने की दिशा में उत्‍तर प्रदेश के दो शहरों राजधानी लखनऊ तथा वाराणसी को टीबी से मुक्‍त करने के अभियान की शुरुआत की गयी। समारोह में धनवंतरि सेवा संस्थान के अध्यक्ष डा. सूर्यकांत ने कहा कि प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने मजबूरी में टीबी की बीमारी को दूर करने का प्रयास किया था लेकिन वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मजबूरी में नहीं बल्कि देश को खुशहाल और स्‍वस्‍थ बनाने के लिए है। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने जहां स्‍वच्‍छता अभियान की शुरुआत की है, वहीं टीबी की बीमारी को भारत से समाप्त करने का बीड़ा उठाया है। डॉ सूर्यकांत ने कहा कि बगैर समाज के सहयोग से कोई भी अभियान पूरा नहीं होगा। उन्‍होंने बताया कि प्राथमिकता के आधार पर वाराणसी और लखनऊ को टीबी मुक्त किया जायेगा।

 

राजधानी लखनऊ स्थित बलरामपुर चिकित्सालय में शुक्रवार को धनवंतरि जयंती के मौके पर महापौर संयुक्ता भाटिया ने टीबी मुक्त लखनऊ अभियान का शुभारम्भ किया। महापौर ने इस मौक पर धनवंतरि सेवा संस्थान की पत्रिका ‘धनवंतरि दर्पण’ का विमोचन किया। इस मौके पर  धनवंतरि सेवा संस्थान की हेल्प लाइन का नम्बर 6307648118 भी जारी किया। महापौर ने धनवंतरि सेवा संस्थान द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि सेवा सामाजिक परिवर्तन और समरस जीवन का बहुत ही सरल माध्यम है। इसी सेवाभाव से प्रेरित सेवाव्रती धनवंतरि केन्द्र के कार्यकर्ता मरीजों की सेवा में लगे रहते हैं। निश्चित ही यह प्रशंसनीय कार्य है।

 

विधायक साकेन्द्र प्रताप वर्मा ने कहा कि धनवंतरि भगवान ने सम्पूर्ण समाज में आरोग्य के बारे में अलख जगाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि आज युवा पीढ़ी के सोचने का नजरिया बदल गया है। उन्‍होंने कहा कि आज धनवंतरि भगवान की विद्या का संरक्षण व संवधर्न करने की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि टीबी मुक्त लखनऊ अभियान टीबी मुक्त् भारत के अभियान में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि समाज के सहयोग से जब  भारत पोलियो मुक्त हो सकता है तो भारत टीबी मुक्त भी होगा।

 

विधायक सुरेश श्रीवास्तव ने कहा कि धनवंतरि सेवा संस्थान का सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान है। इस केन्द्र ने विविध क्षेत्रों में सेवा का कीर्तिमान बनाया है। विधायक सुरेश श्रीवास्तव ने कहा कि संघ के द्वितीय सरसंघचालक गुरू जी ने कहा था कि संघ कुछ नहीं करेगा लेकिन संघ के स्वयंसेवक कुछ नहीं छोड़ेंगे। अवधेश ने सेवा और चिकित्सा जैसे कठिन क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य खड़ा किया है।

 

इस मौके पर राज्य क्षय अधिकारी डा. संतोष गुप्ता ने बताया कि टीबी मरीजों को सरकार इलाज के साथ—साथ प्रतिमाह पांच सौ रूपये भत्ता भी देती है। अब तक उत्तर प्रदेश में टीबी रोगियों के खाते में दो करोड़ रूपये भेजा जा चुका है।  बलरामपुर अस्पताल के निदेशक डा. राजीव लोचन ने बताया कि धनवंतरि भगवान विष्णु के अवतार थे। वह आरोग्य के देवता हैं लोगों ने धनवंतरि जयंती पर केवल धन का संबंध याद रखा बाकी भूल गये।

समारोह में धनवंतरि सेवा संस्थान के प्रेरक अवधेश नारायण, बलरामपुर अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा.ऋषि सक्सेना, चिकित्सा अधीक्षक डा. हिमांशु चतुर्वेदी, सिविल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डा. आशुतोष दुबे, भाऊराव देवरस अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डा. मनीष शुक्ला, केजीएमयू के डा. दर्शन बजाज और डा. निर्मला पंत प्रमुख रूप से उपस्थित थीं।  कार्यक्रम का संचालन धनवंतरि सेवा संस्थान के सचिव डा. नीरज मिश्रा ने की।