Tuesday , April 16 2024

जल्‍द जारी होंगे केजीएमयू कर्मियों के प्रमोशन के ऑर्डर

-कर्मचारियों ने सौंपा ज्ञापन तो कुलपति ने दिया आश्‍वासन

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के कर्मचारियों की पदोन्नति एवं ए सी पी का लाभ न दिए जाने पर कर्मचारी परिषद ने सैकड़ों कर्मचारियों के साथ 13 अक्‍टूबर को काला फीता बांधकर कुलपति कार्यालय पहुंच कर उन्‍हें ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर परिषद के पदाधिकारियों से अहम वार्ता हुई।

यह जानकारी देते हुए केजीएमयू कर्मचारी परिषद के अध्‍यक्ष विकास सिंह ने बताया कि कुलपति जी ने परिषद के पदाधिकारियों को विश्वास दिलाया कि आगामी 17 अक्‍टूबर की बैठक में 3-4 कैडरों की पदोन्नति का आदेश जारी कर दिया जाएगा। केजीएमयू प्रशासन ने साथ ही साथ यह भी अवगत कराया कि जल्द से जल्द बैठक कर बचे हुए कैडर के  भी पदोन्नति आदेश जारी किए जाएंगे।

ज्ञात हो कर्मचारी परिषद ने कर्मचारियों की वरिष्ठता सूची तथा 10 वर्षों से रुकी हुई पदोन्नति, एसीपी को लेकर अब तक ठोस कार्यवाही नहीं होने पर नाराजगी जताते हुए आंदोलन की घोषणा की है, इसके तहत 13 अक्टूबर को काला फीता बांधकर चिकित्सा विश्वविद्यालय प्रशासन को इस बाबत ज्ञापन सौंपने की बात कही गयी थी।  

इस विषय में कर्मचारी परिषद के अध्यक्ष विकास सिंह ने कुलपति को पत्र भेजते हुए लिखा है कि अथक प्रयासों के बाद 22 वर्गों का मानकीकरण का कार्य हो चुका है, लेकिन वरिष्ठता सूची और पदोन्नति व एसीपी को लेकर अनेक बार विरोध किया गया परंतु अब तक इस विषय में कोई ठोस कार्यवाही नहीं हो सकी है।

पत्र में लिखा है कि ऐसी स्थिति में कर्मचारी सेवानिवृत्‍त भी हो रहे हैं साथ ही आर्थिक नुकसान का सामना कर रहे हैं। इससे कर्मचारियों की शारीरिक, मानसिक क्षमता पर भी बुरा असर पड़ रहा है एवं वे पूर्ण मनोयोग से अपना कार्य भी नहीं कर पा रहे हैं।

पत्र में कहा गया है कि ऐसी स्थिति में कर्मचारियों में बहुत रोष है एवं सभी कर्मचारी विरोध प्रदर्शन और आंदोलन करने के लिए बाध्य है, पत्र में कहा गया है कि 13 अक्टूबर को 1 दिन के लिए सभी कर्मचारी काला फीता बांधकर चिकित्सा विश्वविद्यालय प्रशासन को ज्ञापन सौंपेंगे और यदि इसके बाद भी प्रशासन द्वारा कर्मचारियों की मांग पर निश्चित समय तक ठोस कार्यवाही नहीं की गई तो आंदोलन के अगले चरण की तिथि घोषित कर सभी कर्मचारी प्रशासनिक घेराव होगा व वृहद आंदोलन करने पर बाध्य होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.