Saturday , April 13 2024

लोकबंधु अस्‍पताल के अधीक्षक के तबादले से कम नर्सों को कुछ भी स्‍वीकार नहीं

-नर्स से अभद्रता प्रकरण पर निदेशक की अपील ठुकरायी, जारी रहेगा काला फीता से विरोध प्रदर्शन

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। लोकबंधु राजनारायण चिकित्‍सालय में स्‍टाफ नर्स मंजु देवी के साथ हॉस्पिटल के अधीक्षक द्वारा अभद्रता करने का मामला धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है, राजकीय नर्सेज संघ ने आज साफ कर दिया है कि अधीक्षक डॉ अजय शंकर त्रिपाठी के स्‍थानांतरण से कम कुछ भी स्‍वीकार नहीं है, तब तक काला फीता बांधकर विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। दूसरी ओर इसी प्रकरण को लेकर अस्‍पताल की निदेशक डॉ दीपा त्‍यागी द्वारा पत्र जारी किया गया है जिसमें अधीक्षक को चेतावनी देते हुए नर्सेज संघ से आंदोलन समाप्‍त करने की अपील की गयी है।

इस सम्‍बन्‍ध में नर्सेज की मीटिंग के बारे में यहां जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि आज 17 दिसम्‍बर  को राजकीय नर्सेज संघ  उत्तर प्रदेश के महामंत्री अशोक कुमार  की अध्यक्षता में बलरामपुर अस्‍पताल स्थित प्रदेश कार्यालय में बैठक आयोजित की गई, जिसमें लोकबन्धु राजनारायण चिकित्सालय लखनऊ में स्टाफ़ नर्स मंजु देवी से अधीक्षक द्वारा की गयी अभद्रता के सम्बन्ध में राजकीय नर्सेज़ संघ की शिकायत पर निदेशक द्वारा  चेतावनी पत्र जारी करते हुए अधीक्षक को सचेत किया गया है, साथ ही संघ को अवगत कराते हुये विरोध प्रदर्शन समाप्त करने का आग्रह किया गया है।

अशोक कुमार ने बताया कि निदेशक डॉ दीपा त्‍यागी के इस पत्र पर बैठक में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि डॉ अजय शंकर त्रिपाठी का जब तक स्थानांतरण नहीं हो जाता तब तक हम सभी काला फ़ीता बांध कर विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे। उन्‍होंने कहा कि बैठक में पदाधिकारियों का कहना था कि यहां प्रकरण नर्सेज़ बनाम डॉक्टर का नहीं है। डॉ त्रिपाठी इसके पूर्व भी जिस चिकित्सालय में तैनात रहे वहां भी इस तरह की घटना कर चुके हैं।

उन्‍होंने बताया कि लोकबंधु चिकित्सालय के  डॉक्टर, नर्स, टेक्नीशियन, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी सभी डॉ त्रिपाठी की अभद्रता के शिकार हो चुके हैं, ऐसे में यदि 15 दिनों के अंदर  चिकित्सा अधीक्षक के स्थानांतरण का निर्णय नहीं लिया गया तो  आगे लोकबंधु चिकित्‍सालय ही नहीं  लखनऊ के समस्त चिकित्सालयों में इसका विरोध किया  जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.