Thursday , December 2 2021

मांगों पर कोई निर्णय न होने से कर्मचारी आंदोलन शुरू करने पर मजबूर

-आंदोलन के पहले चरण में 19 से 27 फरवरी तक बांधेंगे काला फीता  

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। सरकार द्वारा कर्मचारियों की मांगों पर निर्णय न होने के कारण राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उत्तर प्रदेश के आवाह्न पर कल 19 फरवरी से 27 फरवरी तक समस्त राज्य कर्मचारी पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार काला फीता बांधकर विरोध जतायेंगे।

यह जानकारी डॉ सुभाष चन्द्र श्रीवास्तव राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद, लखनऊ देते हुए कहा है कि परिषद सरकार से लगातार मांग करती आ रही है कि पुरानी पेंशन बहाल की जाए, साथ ही संविदा और ठेके पर कार्यरत कर्मचारियों को परमानेंट करने, केन्द्र के भांति भत्ते, केन्द्र की भांति पद नाम, 50 वर्ष की उम्र के बाद जबरदस्ती सेवानिवृत्त न करने, डीए एवं अन्य एलाउंसेस को बहाल करने, नियुक्तियां करने, कैशलेस इलाज इत्यादि मांगों को लेकर कर्मचारी आंदोलन के लिए बाध्य हैं, इसलिए परिषद की कार्यकारिणी द्वारा लिए गए निर्णय के क्रम में लखनऊ के सभी कार्यालयों, चिकित्सालयों, रोडवेज, निगम, निकाय आदि के कर्मी 19 फरवरी से 27 फरवरी तक अपने- अपने कार्य स्थल पर काला फीता बांध कर कार्य करेंगे।