Monday , December 6 2021

दूसरे दौर में यूपी में 1,01,006 डॉक्‍टर व अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को लगी कोविड वैक्‍सीन

-मुख्‍यमंत्री, चिकित्‍सा शिक्षा मंत्री, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने अस्‍पतालों में जाकर किया वैक्‍सीनेशन का निरीक्षण

-टीका लगवाने के बाद हर जगह डॉक्‍टर्स और अन्‍य कर्मियों ने लोगों से की अपील, पूरी तरह सुरक्षित है वैक्‍सीन

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। विश्वव्यापी जानलेवा महामारी कोविड-19 से बचाव के लिए देश भर में प्रारम्भ हुए टीकाकरण के साथ आज प्रदेश में प्रथम चरण के टीकाकरण में स्वास्थ्य कर्मियों के टीकाकरण का दूसरा राउण्ड सम्पन्न हुआ। प्रदेश में स्वास्थ्य कर्मियों के टीकाकरण के लिए वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता पूर्व में हो चुकी है। आज हुए टीकाकरण में 65% लोगों को वैक्‍सीन लगाई गई। आज 1,55,270 लोगों को वैक्सीन लगनी थी, इसमें से 1,01,006 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। लक्ष्य के अनुसार सर्वाधिक 98% वैक्‍सीनेशन बलरामपुर जिले में हुआ तथा सबसे कम 39% इटावा जिले में हुआ। राजधानी लखनऊ में 58% लोगों को वैक्सीन लगी। आज जिन लोगों को वैक्‍सीन लगी है, उन्‍हें 19 फरवरी को इसका दूसरा डोज दिया जायेगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यहां डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान का भ्रमण कर वहां संचालित कोविड वैक्सीनेशन कार्य का निरीक्षण किया। उन्होंने टीकाकरण हेतु की गई विभिन्न व्यवस्थाओं का अवलोकन किया तथा टीकाकरण कार्य की प्रगति की जानकारी प्राप्त की। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस पर अन्तिम प्रहार करने के लिए वैक्सीनेशन कार्य प्रारम्भ हो गया है। उन्होंने प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन को भारत सरकार की गाइडलाइन्स तथा क्रम के अनुरूप संचालित करने के निर्देश देते हुए कहा कि भारत सरकार द्वारा निर्धारित प्राथमिकता के क्रम में कोविड वैक्सीन राज्य में सभी के लिए उपलब्ध होगी।

इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना, स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, अपर मुख्य सचिव एम0एस0एम0ई0 एवं सूचना नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ रजनीश दुबे, जिलाधिकारी लखनऊ अभिषेक प्रकाश सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

डॉ एसएन संखवार

उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने आज जनपद लखनऊ के विभिन्न चिकित्सा संस्थानों में किए जा रहे कोविड-19 वैक्सीनेशन के दृष्टिगत निरीक्षण किया। चिकित्सा शिक्षा मंत्री सर्वप्रथम मुख्यमंत्री के साथ डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान पहुंचे। इसके उपरांत मंत्री ने एसजीपीजीआई में कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्यों का निरीक्षण किया। इसी क्रम में उन्होंने लोकबंधु चिकित्सालय में भी वैक्सीनेशन कार्यों का अवलोकन किया। अंत में सुरेश खन्‍ना ने किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्यों का निरीक्षण किया।

ज्ञान चतुर्वेदी

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने निरीक्षण के दौरान जिनका वैक्सीनेशन किया गया था और लगभग आधे घण्टे का समय व्यतीत हो गया था, ऐसे एस0जी0पी0जी0आई0 में लगभग 20 व्यक्तियों, लोक बन्धु में 10 व्यक्तियों तथा के0जी0एम0यू0 में 22 व्यक्तियों से फीडबैक भी लिया। सभी के द्वारा उन्हें यह अवगत कराया गया कि वैक्सीनेशन के उपरान्त किसी को कोई भी समस्या महसूस नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन पूर्णतया सुरक्षित है इसका किसी प्रकार का साइड इफेक्ट नहीं है। इस संबंध में लोगों को भी जागरूक किया जाए कि वे किसी प्रकार की अफवाह से बचें और अपनी बारी का इंतजार करें। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करते रहें। ठाकुरगंज टी बी अस्पताल में स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह निरीक्षण करने पहुंचे यहां 158 में से 139 को टीका लगा। यहां पहला टीका चीफ फार्मेसिस्‍ट ज्ञान चतुर्वेदी को लगा।

डॉ बीके ओझा
डॉ अजय सिंह

प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि कोविड टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को प्राथमिकता दी गई है। पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने बताया आज 22 जनवरी के अतिरिक्त 28 और 29 जनवरी को भी स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जायेगा। तीन दिवसीय टीकाकरण अभियान में 4,450 टीकाकरण सत्र आयोजित होंगे। इन तीन दिनों में 4,45,000 स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण होगा। अगले सप्ताह से प्रत्येक गुरूवार व शुक्रवार को कोविड-19 का टीकाकरण कार्य किया जायेगा।

श्री प्रसाद ने बताया आज प्रदेश में टीकाकरण के लिए चिन्हित 1537 स्थानों पर टीका लगाने का कार्य सम्पन्न हुआ। आज के अभियान में 16 जनवरी के टीकाकरण में छूटे हुए स्वास्थ्य कर्मियों को भी शामिल होने का अवसर दिया गया। उन्होंने कहा कि अन्य टीकों की भांति इस टीके से को एक-दो दिन का सामान्य बुखार या अन्य मामूली स्वास्थ्यगत समस्याएं हो सकती हैं, जो स्वतः ही ठीक हो जाती हैं। 16 जनवरी को हुए टीकाकरण के सभी स्वास्थ्य कर्मी अब स्वस्थ हैं। अमित मोहन ने बताया कि उन्होंने स्वयं टीका लगवाया है और सभी से अनुरोध है कि इस जान लेवा वैश्विक महामारी से बचाव के लिए अपनी बारी आने पर टीकाकरण करवाएं।

डॉ अजय वर्मा

टीएस मिश्रा मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल परिसर में वैक्सीनेशन की शुरुआत संस्था की डायरेक्टर डॉक्टर शुभश्री मिश्रा ने टीका लगवा कर की। इसके बाद कॉलेज के प्रिंसिपल एंड प्रोफेसर ब्रिगेडियर आरके श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ बलजीत सिंह अरोरा, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ रमेश श्रीवास्तव, चिकित्सा अधीक्षक कोविड-19 डॉक्टर एसपी राय ने भी वैक्‍सीन लगवाकर सभी कर्मचारियों का उत्साहवर्धन किया। वैक्सीन लगवाने वालों में डॉ मनीष दुबे, डॉ गौरव, डॉक्टर विनीत सिंह, परेश पांडे, श्वेता अग्रवाल, डॉ अंशुमान, अजय श्रीवास्तव, अंजू व्यास, स्मृति शुक्ला, प्रीति तिवारी, योगेश सिंह सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी भी शामिल है। इन सभी को 19 फरवरी को दूसरा डोज लगवाने के लिए कार्ड जारी किया गया।

डॉ सुनित कुमार मिश्र

हॉस्पिटल के चिकित्सा अधीक्षक कोविड-19 डॉक्टर एसपी राय एवं डॉक्टर मेजर सुधांशु तिवारी नोडल अधिकारी ने टीका लगवाने के साथ-साथ मास्क लगाने और 2 गज की दूरी बनाए रखने की सभी से अपील की और यह भी बताया कि इस टीकाकरण से किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं आ रही है सभी लोग स्वस्थ और सुरक्षित हैं। उन्होंने बताया कि यहां पहले चरण में 16 जनवरी को जिन्हें टीका लगा था उन्हें बाद में अभी तक कोई भी रिएक्शन नहीं हुआ।