Thursday , September 29 2022

बजट को देखकर उम्‍मीदें टूटीं, मार्च से आंदोलन करेगा इप्‍सेफ

-केद्रीय बजट को निराशाजनक व हानिकारक बताया इप्‍सेफ ने

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। इंडियन पब्लिक सर्विस इंप्लाइज फेडरेशन (इप्सेफ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष वी पी मिश्रा एवं महामंत्री प्रेमचंद्र ने केंद्रीय बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि केंद्र सरकार पूर्व के बजट से भी अत्यधिक निराशाजनक एवं हानिकारक है। जो उम्‍मीदें लगा रखी थीं, वे बजट को देखकर टूट गयी हैं। ऐसे में कर्मचारियों को अपने अस्तित्व की रक्षा करने के लिए तत्पर होकर संघर्ष करने के अलावा कोई रास्ता नहीं है। इप्सेफ राष्ट्रीय स्तर पर मार्च 2021 से आंदोलन करने की घोषणा करेगा।

उन्होंने कहा कि इनकम टैक्स की छूट सीमा 8 लाख करने की मांग की गई और प्रधानमंत्री एवं वित्त मंत्री को पत्र भेजकर अवगत भी कराया था। खेद का विषय है कि कोविड-19 की महामारी से बचाने के लिए अपनी अपनी जान की बाजी लगाने वाले स्वास्थ्य विभाग एवं सफाई कर्मचारी आदि से संबंधित कर्मचारियों को भी कोई राहत नहीं दी गई है। इसका बुरा असर कर्मचारियों के परिवार पर पड़ेगा।

राष्ट्रीय सचिव अतुल मिश्रा ने खेद व्यक्त किया है कि लॉकडाउन में काटे गए वेतन वृद्धि महंगाई भत्ते की बकाया किस्तों के भुगतान तथा अन्य भत्ते की कटौती वापस करने तथा नई पेंशन योजना समाप्त करके पुरानी पेंशन योजना लागू करने तथा आउटसोर्सिंग संविदा कर्मचारियों के विनियमितीकरण के नीति बनाने पर भी घोषणा नहीं की है।