Wednesday , October 5 2022

मौत देने वाली तम्बाकू की नहीं, जीवन को महकाने वाले फूलों की खेती करें किसान

-के जी एम यू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग ने विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर आयोजित किया कार्यक्रम

-तम्बाकू की बिक्री पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने का अनुरोध करते हुए डॉ सूर्यकांत ने पी एम को लिखा पत्र

-ऑल इंडिया पयाम इन्सानियत फोरम के नशा मुक्ति पोस्टर का विमोचन भी किया

सेहत टाइम्स
लखनऊ।
जो किसान अभी तम्बाकू की खेती करके कमाई करते हैं, वे इत्र के लिए फूलों की खेती कर कमाई करें, इससे तम्बाकू का सेवन करने वाले लोगों का भी जीवन चिता की आग में दहकेगा नहीं, बल्कि सुगंध से महकेगा।

यह बात विश्व तम्बाकू निषेध दिवस (31 मई) के मौके पर किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग द्वारा आयोजित जागरूकता कार्यक्रम में डॉ सूर्यकांत ने कही। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डाक्टर सूर्यकांत ने कहा सरकार को जितना राजस्व तम्बाकू के व्यापार से मिलता है उसका तीन गुना खर्च केवल इससे होने वाली तीन प्रमुख बीमारियों पर हो जाता है। इस व्यापार में हर साल पूरे विश्व में साठ करोड़ पेड़ काटे जाते हैं और इस तंबाकू के सेवन से चौरासी करोड़ कार्बन डाइऑक्साइड वातावरण में फैलती है। इस लिए अपने स्वास्थ्य के साथ पर्यावरण की सुरक्षा के लिए भी हम सब को तंबाकू से खुद भी बचना चाहिए और अपने साथ के हर व्यक्ति को इससे बचाना चाहिए।

उन्होंने बताया आज प्रधानमंत्री श्री मोदी को एक पत्र भी भेजा है जिसमे इस बात का उनसे अनुरोध किया है कि तम्बाकू को पूर्ण रूप से बन्द किया जाए और जो मज़दूर तम्बाकू की खेती करते हैं उनसे इत्र के लिए फूलों की खेती करवाई जाए।

ऑल इंडिया पायामे इन्सानियत फोरम के हाजी शिराज उद्दीन ने कहा तम्बाकू को हमारे समाज और कुछ तम्बाकू विज्ञापन ने इसे अतिथि देवो भव यानी मेहमान नवाज़ी से जोड़ कर दिखाया गया है, जो सरासर गलत है, जो बुराई है वो किसी के लिए भी अच्छाई नहीं हो सकती।

डाक्टर सूर्यकांत व उनकी पूरी टीम का शुक्रिया अदा करते हुए मुफ्ती अबुल कासिम नदवी ने कहा इस तरह के प्रोग्राम होते रहना चाहिए, अगर बुराई को बुराई कहने वाले नहीं होंगे तो उस बुराई को ख़त्म करना मुश्किल हो जाएगा।

डाक्टर अंकित ने बताया किंग जार्ज मेडीकल यूनिवर्सिटी के रेस्पिरेटरी विभाग में डाक्टर सूर्यकांत की निगरानी में तंबाकू के मरीजों का इलाज किया जाता है,उन्होंने कहा हमारी टीम की कोशिश होती है के बिना दवा के काउंसलिंग के जरिए ही मरीज़ सही हो जाए। कार्यक्रम का संचालन डाक्टर सपना ने किया, इस मौके पर रेस्पिरेटरी विभाग एवम ऑल इंडिया पयाम इन्सानियत फोरम के द्वारा जारी नशा मुक्ति पोस्टर का विमोचन डाक्टर सूर्यकांत ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

one × three =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.