Thursday , December 2 2021

कूल्ड रेडियोफ्रिक्वेंसी’ से शरीर के दर्द दूर करेंगे देश भर से आये विशेषज्ञ

-डॉ राम मनोहर लोहिया संस्‍थान में दो दिवसीय कार्यशाला और सीएमई का आयोजन 9 और 10 अक्‍टूबर को

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान लखनऊ के एनेस्थीसियोलॉजी, क्रिटिकल केयर एवं पेन मेडिसिन विभाग द्वारा 9 एवं 10 अक्टूबर को एवं लाइव कार्यशाला एवं सतत् चिकित्सा शिक्षा कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। जिसका विषय रेडियोफ्रीक्‍वेन्‍सी इंटरवेंशन इन पेन मेडिसिन-ट्रेन्‍ड्स एंड फ्यूचर है। इस कार्यशाला में ‘कूल्ड रेडियोफ्रिक्वेंसी’ के माध्यम से लम्बे समय से सिरदर्द, घुटने में दर्द, ट्राईजैमाइनल न्यूरेल्जिया, गले की नसों में दर्द, पैरों की नसों में दर्द, रीड़ की हड्डी का दर्द या खिंचाव, कंधें न घूमते हों ऐसे मरीजों को इस तकनीक के माध्यम से दर्द से राहत दी जायेगी।

लाइव कार्यशाला एवं सतत् चिकित्सा शिक्षा कार्यक्रम का शुभारंभ संस्थान की निदेशक प्रो0 सोनिया नित्यानंद द्वारा 9 अक्टूबर को होगा।  यह कार्यक्रम प्रो0 दीपक मालवीय विभागाध्यक्ष के दिशा-निर्देशन में किया जा रहा है।

पेन मेडिसिन टीम के डॉ अनुराग अग्रवाल एवं डॉ शिवानी रस्तोगी ने बताया कि लाइव कार्यशाला एवं सतत चिकित्सा शिक्षा में देश के विभिन्न प्रदेशों से पेन मेडिसिन के विशेषज्ञ डा0 पंकज सुरंगे, डॉ अमितेश पाठक, डॉ आशू जैन, डॉ राखी गुप्ता, डॉ चेतना शमशेरी, डॉ देवेंद्र सिंह, डॉ सुजीत कुमार सिंह गौतम, डॉ संदीप खूबा एवं डॉ संजय कुमार भाग लेंगे।

उन्‍होंने बताया कि इस कार्यशाला में ‘कूल्ड रेडियोफ्रिक्वेंसी’ के माध्यम से लम्बे समय से सिरदर्द, घुटने में दर्द, ट्राईजैमाइनल न्यूरेल्जिया, गले की नसों में दर्द, पैरों की नसों में दर्द, रीड़ की हड्डी का दर्द या खिंचाव, कंधें न घूमते हों ऐसे मरीजों को इस तकनीक के माध्यम से दर्द से राहत दी जायेगी। ऐसे मरीज अक्सर दर्द नाशक दवाइयों के सहारे अपना जीवन व्यतीत करते हैं एवं समुचित लाभ न होने से विभिन्न प्रकार की मानसिक बीमारियों से पीड़ित हो जाते हैं। इस उन्नत विधि में मरीजों में साइड इफेक्ट का खतरा न के बराबर होता है एवं दर्द से तुरंत राहत मिलती है।

उन्‍होंने बताया कि कोल्ड रेडियोफ्रिक्वेंसी विधि के इलाज में 40 से 50 हजार रूपये का खर्च आता है परंतु इस कार्यशाला में इस विधि से निःशुल्क इलाज किया जायेगा। इस प्रक्रिया में 1-2 घंटे लगते है तथा मरीजों को उसी दिन डिस्चार्ज कर दिया जाता है।

प्रो0 दीपक मालवीय विभागाध्यक्ष ने बताया कि डा0 राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान लखनऊ देश के अग्रणी संस्थानों में है यहां पर एनेस्थीसिया, क्रिटिकल केयर व पेन मेडिसिन विभाग के अन्तर्गत पेन मेडिसिन ओ0पी0डी0 व एवं विश्व स्तरीय पेन ओ0टी0 का सफलतापूर्वक संचालन हो रहा है। सप्ताह में चार दिन, डा0 शिवानी रस्तोगी एवं डा0 अनुराग अग्रवाल द्वारा इस पेन क्लीनिक में सभी प्रकार के क्रोनिक पेन सिंड्रोम जैसे कि कैंसर पेन, कमर दर्द, गठिया, ट्राईजैमिनल न्यूरैल्जिया, पोस्ट हरपेटिक न्यूरैल्जिया, फ्रोजन शोल्डर, हड्डियों के कैंसर आदि बीमारियों के लिए विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधायें जैसे- कि मिनिमली इनवेजिव पेन और स्पाइन इंटरवेंशन (मिप्‍सी) द्वारा किया जा रहा है। डा0 अनुराग ने बताया कि मिप्‍सी में रेडियोफ्रिक्वेंसी ट्रीटमेंट, रीजनरेटिव मेडिसिन ट्रीटमेंट, परक्यूटेनियस स्पाइन इण्डोस्कोपी द्वारा विभिन्न प्रकार के रीढ़ की हड्डी एवं क्रोनिक पेन का उपचार संभव है। मिप्‍सी उपचार के माध्यम से बिना किसी चीड़ फाड़ के या बेहोशी के रोगियों का इलाज करने में सक्षम रहा है। प्रो0 दीपक मालवीय ने कहा कि एनेस्थीसिया क्रिटिकल केयर एवं पेन मेडिसिन विभाग, डा0 राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान को एक पेन-फ्री अस्पताल बनाने के लिए कटिबद्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 10 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.