Thursday , September 29 2022

सब मिल प्रयास करेंगे अपना-अपना, तभी पूरा होगा टीबी मुक्‍त भारत का सपना

-माल ब्‍लॉक में प्‍लान इंडिया ने आयोजित की ग्राम प्रधानों की संवेदीकरण कार्यशाला

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ “टीबी हारेगा देश जीतेगा” उद्देश्य के साथ राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत मंगलवार को माल ब्लॉक में प्लान इंडिया ने स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से नव निर्वाचित ग्राम प्रधानों की एक दिवसीय संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन किया।  

इस मौके पर जिला क्षय रोग अधिकारी(डीटीओ) डा. ए.के. चौधरी ने कहा- प्रधानमंत्री ने आह्वान किया है कि देश को 2025 तक क्षय रोग से मुक्त कराना है। इसके लिए समाज के हर व्यक्ति को क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम में अपना सहयोग देना चाहिए ताकि जनपद ही क्या पूरा प्रदेश और देश इस रोग से मुक्त हो जाये।

जिला क्षय रोग अधिकारी ने कहा- ग्राम प्रधानों की क्षय रोग उन्मूलन अभियान में अहम भूमिका है। वह पंचायत के माध्यम से गांव-गांव में क्षय रोग के लक्षणों सहित इसकी जांच और इलाज के बारे में जनसमुदाय को बताएं।  वह एक अभियान छेड़ें कि उन्हें अपने गांव अपने ब्लॉक को क्षय रोग मुक्त बनाना है।  जनसहभागिता सुनिश्चित करें। समाज के अंतिम व्यक्ति तक इसकी जानकारी पहुंचे ताकि हम शीघ्र से शीघ्र इस बीमारी से जिले को मुक्त करायें।

इस मौके पर खंड विकास अधिकारी रवीन्द्र मिश्रा ने कहा – जनपद को क्षय रोग से मुक्त कराने के लिए सभी विभागों को प्रयास करने चाहिए। सब मिलकर प्रयास करेंगे तभी हम प्रधानमंत्री का सपना पूरा कर पाएंगे।

इस अवसर पर पब्लिक प्राइवेट मिक्स समन्वयक रामजी वर्मा ने ग्राम प्रधानों को क्षय रोग के लक्षणों, रोग की पहचान, प्रसार और इलाज के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि क्षय रोगियों को निक्षय पोषण योजना के तहत 500 रुपये की धनराशि सीधे उनके खाते में भेजी जाती है।

इस अवसर पर राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के फहीम अहमद, माल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के सीनियर ट्रीटमेंट सुपरवाइजर अक्षय यादव, प्लान इण्डिया के राज्य समन्वयक श्याम प्रकाश, वैशाली और 30 प्रधान मौजूद रहे |    

क्षय रोग के यह हैं लक्षण

दो हफ्ते से लगातार खांसी आना

बुखार आना

रात में पसीना आना

भूख न लगना

वजन में लगातार कमी आना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

13 + 7 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.