Thursday , September 29 2022

चिंतनीय : रोजाना एक हजार लोगों की जान ले रही है टीबी

-विश्‍व टीबी दिवस पर टीबी के जड़ से खात्‍मे के टिप्‍स बताये गये केजीएमयू के पल्‍मोनरी मेडिसिन विभाग में

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। विश्‍व टीबी दिवस पर किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍वविद्यालय केजीएमयू के रेस्‍पाइरेटरी मेडिसिन विभाग में जागरूक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें विभागाध्‍यक्ष प्रो सूर्यकान्‍त व विभाग के दूसरे विशेषज्ञों ने मरीजों व तीमारदारों के साथ ही उपस्थित लोगों को टीबी रोग के बारे में जानकारी देते हुए जो स्‍वस्‍थ हैं वे टीबी से कैसे बचें, जो टीबी के रोगी हैं वे कैसे स्‍वस्‍थ हों तथा जिन्‍हें पता ही नहीं है कि उन्‍हें भी टीबी है, उनकी पहचान करने जैसी महत्‍वपूर्ण बातों की जानकारी दी।

डॉ सूर्यकान्‍त ने बताया कि राबर्ट कॉक ने 24 मार्च 1882 को टी.बी. के जीवाणु की खोज की थी और यह खोज टी.बी. को समझने और इलाज में मील का पत्थर साबित हुई। इस खोज की याद में हर साल 24 मार्च को विश्व टी.बी. दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस साल ‘विश्व टीबी दिवस 2022’ की थीम ‘Invest to End TB-Save Lives’ अर्थात “टीबी को खत्म करने के लिए निवेश करें-जीवन बचायें“ है। उन्‍होंने बताया कि रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग अपना 75वां प्लेटिनम जुबली स्थापना वर्ष भी मना रहा है। इसी कड़ी में आज जनमानस के साथ-साथ, मरीजों एवं तीमारदारों को टी.बी. के बारे में जागरूक किया गया।

डा0 सूर्यकान्त ने लोगों को बताया कि जब टी.बी. रोग से ग्रसित व्यक्ति खांसता, छींकता या बोलता है तो उसके साथ संक्रामक न्यूक्लीआई उत्पन्न होते है, जो हवा के माध्यम से फैल सकते है। विश्व में टी.बी. का हर चौथा मरीज भारतीय है। विश्व में प्रतिवर्ष 14 लाख मौतें टी.बी. से होती हैं, उनमें से एक चौधाई से अधिक मौतें अकेले भारत में होती हैं। हमारे देश में लगभग 1000 लोगों की मृत्यु प्रतिदिन टी.बी रोग के कारण होती है। उन्होनें आगे बताया कि लगातार 2 हफ्ते तक खांसी आना, खांसी के साथ साथ खून आना, छाती में दर्द होना, वजन कम होना, शाम को बुखार आना, रात में पसीना होना जैसे लक्षण होने पर मरीज को तुरन्त टी.बी. की जांच करानी चाहिए। डा0 सूर्यकान्त ने टीबी रोग से जुड़े मिथक भी लोगों के सामने रखे और बताया कि टीबी का इलाज मुमकिन है, लेकिन टीबी का इलाज लंबा चलता है। टीबी का इलाज पूरा करवाने से यह पूरी तरह से ठीक हो सकता है। टीबी के बारे में लोगों का दूसरा मिथक यह भी है कि टीबी की समस्या केवल फेफड़ों को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती हैं। लेकिन टीबी की समस्या खून के जरिये फैलकर शरीर के अन्य अंगों पर भी प्रभाव डाल सकती है। टीबी एक जानलेवा रोग है, यह भी एक मिथक ही है। अगर समय रहते व्यक्ति टीबी का इलाज करवा लें तो मरीज बिल्कुल ठीक होकर सामान्य जीवन जी सकता है।

डा0 सूर्यकान्त जो उ0प्र0 स्टेट टास्क फोर्स (क्षय उन्मूलन) के चेयरमैन भी हैं ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री ने 2025 तक टी.बी. मुक्त भारत बनाने का सपना देखा है। इस अवसर पर भारत से टी.बी. उन्मूलन के लिए प्रधानमंत्री के लक्ष्य को पूरा करने के लिए मरीजों, तीमारदारों एवं चिकित्सकों ने संकल्प लिया। ज्ञात रहे राज्यपाल ने उ0प्र0 के सभी शिक्षण एवं चिकित्सा संस्थानों तथा स्वयं सेवी संस्थानों का आहृवान किया है कि वे टी.बी. से ग्रसित बच्चों को गोद लें एवं इलाज के दौरान उनका पोषण एवं भावनात्मक रूप से संरक्षण प्रदान करें। इसी प्रेरणा से रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग ने टी.बी. रोग से पीड़ित 52 बच्चों को पहले ही गोद लिया था और आज विश्व टी.बी. दिवस के मौके पर पुनः 24 बच्चे गोद लिये गये हैं।

रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर, डा0 आर ए एस कुशवाहा ने टीबी से बचाव के तरीको से लोगों को अवगत कराया। रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर, डा0 संतोष कुमार ने लोगों को बताया कि टी.बी. की जांच एवं इलाज सभी सरकारी अस्पतालों में निःशुल्क उपलब्ध है, इसके अलावा सरकारी अस्पतालों की दवाइयां, इलाज एवं जांचें प्राइवेट संस्थानों की तुलना में अच्छी एवं गुणवत्ता में भी श्रेष्ठ हैं। विभाग के एडिशनल प्रोफेसर डा0 अजय कुमार वर्मा ने बताया कि टी.बी. एक नोटीफियबल डिजीज है,  नोटीफाई (पंजीकृत) होते ही निक्षय पोषण योजना के तहत इलाज के दौरान भारत सरकार द्वारा 500 रू प्रतिमाह सीधे मरीज के बैंक खाते में दिया जा रहा है। इस अवसर पर के.जी.एम.यू. के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के फैकल्टी मेंबर्स डा0 राजीव गर्ग, डा0 आनन्द श्रीवास्तव, डा0 दर्शन कुमार बजाज, डा0 ज्योति बाजपेई, रेजिडेन्ट डॉक्टर्स एवं कर्मचारीगण भी सम्मीलित हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

seventeen + seven =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.