Friday , May 27 2022

कर्मियों के सहयोग से कोविड की तीसरी लहर पर भी विजय पायेंगे

-एसजीपीजीआई के निदेशक ने पारम्‍परिक तरीके से फहराया तिरंगा
-गणतंत्र दिवस समारोह में 12 कर्मियों को किया गया सम्‍मानित


सेहत टाइम्‍स
लखनऊ।
संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान, लखनऊ में देश का 73वां गणतंत्र दिवस पूरे उत्साह और उमंग के साथ मनाया गया। संस्थान के निदेशक प्रो आर के धीमन ने परंपरागत तरीके से ध्वजारोहण किया।
राष्ट्रगान के पश्चात उपस्थित संकाय सदस्यों और कर्मचारियों को संबोधित करते हुए उन्होंने पिछले एक वर्ष की उपलब्धियों का लेखा जोखा प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि पिछले दो वर्ष कोरोना महामारी से संघर्ष करते बीते और इस पर हमने विजय भी प्राप्त की। उन्होंने संस्थान परिवार के सभी सदस्यों चिकित्सक, सीनियर रेजिडेट, नर्सिंग स्टाफ, टेक्नीशियन, सफाई कर्मचारियों और अन्य सभी स्टाफ की भूरि-भूरि‍ प्रशंसा की और इसके लिए उन्हें हृदय से धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि आप सभी के सहयोग से हम तीसरी लहर का भी सामना कर पाएंगे।
निदेशक ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा हाल ही में लोकार्पित किए गए 7 प्रोजेक्ट का भी उल्लेख किया। इसमें इमरजेंसी मेडिसिन और गुर्दा प्रत्यारोपण केंद्र के विषय में उन्होंने बताया कि इसमें कुल 558 बेड्स होंगे, जिसमें से 210 बेड्स इमरजेंसी मेडिसिन विभाग के लिए हैं। इमरजेंसी बेड्स में 7 गुनी बढ़ोतरी से आकस्मिक सेवाओं में निसंदेह सुधार आएगा। उन्होंने पल्‍मोनरी मेडिसिन विभाग में एडवांस ब्रोंकोस्कॉपी लैब के विस्तार एवं नवीनीकरण के विषय में भी जानकारी दी। उन्होंने एडवांस पीडियाटिक सेंटर का भी उल्लेख किया, जिसकी घोषणा मुख्यमंत्री द्वारा की गई थी।


निदेशक ने कहा कि हमारे राज्य की जनसंख्या का 40% बच्चे हैं। अतः बच्चों की बीमारियों से संबंधित एक पृथक विभाग की आवश्यकता थी। इस एडवांस पीडियाट्रिक सेंटर में 23 विभाग होंगे, जिसमें 125 संकाय सदस्य और 185 सीनियर रेजिडेंट की भी नियुक्ति की जाएगी। इस प्रकार बच्चों के लिए एक समानांतर अस्पताल होगा, जिसमें उनसे संबंधित सभी बीमारियों के लिए एक ही केंद्र होगा।
उन्होंने एडवांस डायबिटिक सेंटर के विषय में भी जानकारी दी, जिसमें डायबिटीज से संबंधित हर बीमारी के लिए एक ही छत के नीचे समस्त उपचार सुविधाएं होंगी।
उन्होंने (एसटीपीआई ) सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ़ इंडिया व इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के साथ पीजीआई के हुए समझौते (MOU) का भी जिक्र किया जिसके अंतर्गत ventilator, infrared thermometer, monitor संस्थान में ही बनाये जायेंगे। हब और स्पोक मॉडल पर आधारित टेली आई सी यू के विषय में भी उन्होंने कहा कि पीजीआई और उत्तर प्रदेश के 6 मेडिकल कॉलेजों के बीच में 200 बेड्स का टेली ICU भी एक बड़ी उपलब्धि है।
संस्थान में ई ऑफिस के द्वारा कार्य प्रारंभ किए जाने पर प्रोफेसर उत्तम सिंह को बधाई दी।
उन्हें सूचित किया कि संवर्ग पुनर्गठन का कार्य पूर्ण हो चुका है। पहली GB से 15 कैडर और दूसरी जी बी से 27 कैडर का पुनर्गठन हुआ। आने वाले 1 माह के अंदर इससे संबंधित सभी कार्यवाही पूर्ण कर ली जाएगी।
इस कार्यक्रम में सामाजिक दूरी बनाए रखकर कुछ सीमित संख्या में लोगों ने भाग लिया। अन्य सभी सदस्य zoom मीटिंग द्वारा इस कार्यक्रम में शामिल हुए।
इस अवसर पर संस्थान के 12 कर्मठ सदस्यों को उनके उत्कृष्ट व उत्तम कार्य निष्पादन के लिए निदेशक द्वारा सम्मानित किया गया , जिसमें शामिल हैं-

  1. डॉ राजीव कुमार, सहायक अभियंता, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग
  2. जे एस शुक्ला, मुख्य प्राविधिक अधिकारी, ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग
  3. एस के झा, मेडिकल सोशल सर्विस ऑफिसर, कार्डियोलॉजी ओपीडी
  4. बिल्किस अंसारी, उप नर्सिंग अधीक्षिका, न्यूरोसर्जरी वार्ड
  5. के रमेश कुमार, वरिष्ठ तकनीशियन, एंडॉक्रिनलॉजी विभाग
  6. संतोष कुमार साहू, सहायक लेखाकार, मुख्य वित्त विभाग
  7. महेश चंद्र, प्राविधिक अधिकारी , नेफोलाजी विभाग
  8. इंदुलेखा सुनीश, सिस्टर, ग्रेड वन, सीसीएम
  9. मनु कोट्टापूरथ, सिस्टर ग्रेड 2, पीडियाट्रिक सर्जरी वार्ड
  10. अवध बिहारी, एल डी ए, भर्ती प्रकोष्ठ
  11. औसनलाल, माली ग्रेड 1 विभाग
  12. मेवालाल अटेंडेंट ग्रेड 2 मुख्य् वित्त विभाग
    इस अवसर पर संस्थान के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, प्रोफेसर गौरव अग्रवाल, संयुक्त निदेशक, प्रशासन, प्रोफेसर रजनीश कुमार सिंह व अन्य संकाय सदस्य भी उपस्थित थे। देश भक्ति गीत के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × four =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.