Sunday , October 24 2021

एसजीपीजीआई की नर्सें 25 जून को करेंगी दो घंटे कार्य बहिष्‍कार

-10 से 12 बजे तक कार्य ठप होने से हो सकती है मरीजों को दिक्‍कत

-पदोन्‍नति व पदनाम बदलने की मांगों को पूरा न किये जाने के विरोध में लिया गया है फैसला

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। संजय गांधी पीजीआई नर्सिंग स्टाफ एसोसिएशन 16 वर्षों में एक भी पदोन्‍नति न किये जाने व पदनाम बदलने की मांगों को लेकर आगामी 25 जून को 2 घंटे का कार्य बहिष्कार कर रही है। इस कार्य बहिष्‍कार से नर्सिंग सेवाओं के बाधित होने की पूरी संभावना है।

नर्सिंग स्टाफ एसोसिएशन की अध्यक्ष सीमा शुक्ला द्वारा इस संबंध में 21 जून को निदेशक को पत्र सौंपा जा चुका है। उन्होंने बताया कि 25 जून को कार्य बहिष्कार प्रातः10 बजे से मध्‍यान्‍ह 12 बजे तक किया जाएगा। पत्र में कहा गया है कि नर्सिंग कर्मचारियों को 16 वर्षों की सेवा के बाद एक भी पदोन्नति नहीं मिली है, जिससे धन एवं सम्मान की हानि हो रही है, जबकि दूसरे संस्थानों में संबद्ध बैच के भर्ती स्टाफ दो पदोन्नति प्राप्त कर चुके हैं।

पत्र में कहा गया है कि एसोसिएशन 2017 से लगातार इस मांग के लिए के समाधान के लिए प्रयासरत है, मौजूदा निदेशक द्वारा भी पिछले 16 महीनों से आश्वासन ही दिया जा रहा है, उनके आश्‍वासन के चलते एसोसिएशन दो बार अपना आंदोलन टाल चुका है। पत्र में कहा गया है कि पदोन्‍नति के अलावा नर्सिंग संवर्ग का पदनाम जो एम्स, नई दिल्ली के अनुसार किया जाना है, जो कि कई राज्‍यों में कर दिया गया है, इसमें तो संस्‍थान के कोई वित्तीय भार भी नहीं उठाना है, लेकिन इसका भी समाधान नहीं किया गया है।

पत्र में कहा गया है कि कोरोना महामारी में भी नर्सिंग संवर्ग ने अपने परिवार के जीवन की चिंता न करते हुए जनमानस की सेवा की है, जिसमें एक नर्सिंग कर्मी अपनी जान भी गंवा चुका है जबकि कई अपने परिजनों को खो चुके हैं। पत्र में कहा गया है कि हमारे संवर्ग द्वारा पूरी निष्ठा एवं ईमानदारी से कार्य किये जाने के बावजूद हमारी मांगों का समाधान वर्षों तक लंबित किया जाता है जो कि बहुत ही असंवैधानिक एवं असंवेदनशील है।

पत्र में कहा गया है कि हमारी मांगों का समाधान पूर्व में तय 28 जून को होने वाली जीबी में कराया जाए अन्यथा की स्थिति में एसोसिएशन 25 जून को प्रातः 10 बजे से मध्‍यान्‍ह 12 बजे तक कार्य बहिष्कार करेगी।