Thursday , January 20 2022

इन्फ्लूएंजा से व्यापक सुरक्षा देने वाली नई फोर-स्ट्रेन फ्लू वैक्सीन

-एबॉट ने लॉन्‍च की क्वाड्रीवेलेंट वैक्सीन

लखनऊ वैश्विक हेल्थकेयर कंपनी एबॉट ने हाल ही में इन्फ्लूएंजा के लिए एक नई क्वाड्रीवेलेंट वैक्सीन लॉन्च की है। यह भारत में वायरस के चार उपभेदों (स्ट्रेन) के प्रति सुरक्षा प्रदान करने वाली अपनी तरह की पहली सब-यूनिट वैक्सीन है। यह भारत में एकमात्र 0.5 मिली. क्वाड्रीवेलेंट फ्लू वैक्सीन है, जिसे 3 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में इस्तेमाल के लिए अनुमोदित किया गया है। यह टीका 6 महीने से ऊपर के बच्चों तथा वयस्कों को दिया जा सकता है। 0.5 मिलीलीटर का टीका 3 साल से कम उम्र के बच्चों में प्रतिरक्षी प्रतिक्रिया को बेहतर बना सकता है।

एबॉट द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि विश्व स्तर पर स्वीकृत उत्पाद, एबॉट का यह टीका एक साथ चार अलग-अलग फ्लू वायरस स्ट्रेन के खिलाफ प्रतिरक्षण करके व्यापक सुरक्षा प्रदान करता है। इसलिए, इसे क्वाड्रीवेलेंट या टेट्रावेलेंट वैक्सीन कहा जाता है। ट्राइवेलेंट वैक्सीन के एक बी-स्ट्रेन की तुलना में इसमें इन्फ्लूएंजा वायरस का एक दूसरा बी-स्ट्रेन भी शामिल है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि किसी वैक्सीन की सिफारिश करना स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए पेचीदा हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वैक्सीन स्ट्रेन और संचारित हो रहे वायरल स्ट्रेन में अंतर हो सकता है। इसलिए, क्वाड्रीवेलेंट वैक्सीनों में एक अतिरिक्त बी-स्ट्रेन को शामिल किया जाना ज्यादा व्यापक सुरक्षा देने में मददगार हो सकता है।

वैश्विक स्तर पर इस वैक्सीन को लेकर हाल ही में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, बच्चों में क्वाड्रीवेलेंट वैक्सीनों ने ट्राइवेलेंट वैक्सीन के ऑल्टरनेट-लाइनेज बी-स्ट्रेंस की तुलना में बेहतर प्रतिरक्षात्मकता या प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया सामने आयी और यह तुलनात्मक रूप से सुरक्षित भी रही।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि एबॉट इंडिया की मेडिकल डायरेक्टर डॉ. श्रीरूपा दास ने कहा कि, ‘‘हम अपने फ्लू वैक्सीन के क्वाड्रीवेलेंट संस्करण के लॉन्च से उत्साहित हैं, जो 6 महीने से ऊपर के बच्चों और वयस्कों दोनों को लगाया जा सकता है। यह विशिष्ट प्रकार का वैक्सीन कम साइड इफेक्ट्स के साथ बढ़िया प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उपलब्ध कराता है। यह फ्लू से ज्यादा से ज्यादा लोगों का बचाव करने को लेकर एबॉट के प्रयासों की दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम है।