Monday , June 27 2022

शाबाश डॉक्टर ! युवक के गले से मुंह तक घुसी सरिया को सर्जरी कर निकाला

बाइक पर जा रहा युवक दुर्घटना के बाद उछलकर गिरा था जमीन में गड़ी नुकीली सरिया के ऊपर

इस तरह घुसी हुई थी 17 सेंटीमीटर लम्बी लोहे की सरिया (बायें), तथा सर्जरी के बाद लेटा मरीज।

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍व विद्यालय (केजीएमयू) के सर्जन ने दुर्घटना में गले से घुसकर मुंह से बाहर आयी सरिया को सर्जरी कर निकालने में सफलता प्राप्‍त की है। दो घंटे से ज्‍यादा चले ऑपरेशन के बाद मरीज को गहन निगरानी में रखा गया है तथा वह होश में है।

मिली जानकारी के अनुसार शाम करीब साढ़े पांच बजे लखनऊ के फूलबाग का रहने वाला 24 वर्षीय मोहम्‍मद कोनन बाइक पर सवार होकर तेज रफ्तार से गोमती नगर क्षेत्र में कहीं जा रहा था तभी दुर्घटना होने से वह उछल कर पेड़ के किनारे लगी नुकीली सरिया पर गिरा। सरिया पर गिरने से करीब 17 सेंटीमीटर सरिया उसके गले से घुसते हुए मुंह के रास्‍ते बाहर आ गयी। बताया जाता है कि गंभीर रूप से घायल इस युवक को पुलिस वालों ने ट्रॉमा सेंटर तक लाने में बुद्धिमता और तत्‍परता का परिचय देते हुए घुसी हुई सरिया से युवक को अलग करने के लिए गले के पास से सरिया काट दी, और तत्‍काल ट्रॉमा सेंटर की कैजुअल्‍टी में लेकर पहुंचे।

ट्रॉमा सेंटर में उस समय सर्जरी विभाग के असिस्‍टेंट प्रोफेसर डॉ यादवेंद्र धीर राउंड ले रहे थे और संयोगवश उस समय ओटी भी ऑपरेशन के बाद सफार्इ की गयी थी और खाली थी। डॉ यादवेंद्र ने तुरंत ही प्रो समीर मिश्र को फोन कर यह जानकारी दी, आपको बता दें कि प्रो समीर मिश्र छुट्टी पर थे और घर पर ही थे। डॉ समीर ने बताया कि हादसे में घायल युवक की हालत सुनकर वह तुरंत ही ट्रॉमा सेंटर पहुंचे और सर्जरी शुरू कर दी। उन्‍होंने बताया कि करीब दो घंटे से ज्‍यादा का वक्‍त लगा लेकिन सर्जरी सफल रही तो सभी ने चैन की सांस ली। उन्‍होंने बताया ऑपरेशन के बाद मरीज होश में है तथा उसकी गहन निगरानी की जा रही है। सर्जरी में प्रोफेसर समीर मिश्र, असिस्‍टेंट प्रोफेसर यादवेंद्र धीर, सीनियर रेजीडेंट डॉ यू सिंह तथा जूनियर रेजीडेंट डॉ देवांशु के अलावा एनेस्‍थीसिया टीम में डॉ अंशू सिंह, डॉ ज्‍योति रावत व डॉ ज्‍योति चौधरी शामिल थीं।