Thursday , October 28 2021

ज्ररूरत पड़ी तो भारतीय सेना फि‍र कर सकती है सर्जिकल स्‍ट्राइक

केजीएमयू पहुंचे लेफ्टिनेंट जनरल दीपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा, यह सब बताकर नहीं किया जाता

लखनऊ। सर्जिकल स्‍ट्राइक जैसे कदम बता कर नहीं उठाये जाते हैं। भारतीय सेना एक सक्षम सेना है तथा जरूरत पड़ने पर फि‍र से सर्जिकल स्‍ट्राइक कर सकती है। यह बात बुधवार को लखनऊ स्थि‍त किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍व‍ विद्यालय पहुंचे लेफ्टिनेंट जनरल दीपेन्द्र सिंह हुड्डा ने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कही। बता दें कि लेफ्टिनेंट जनरल हुड्डा के नेतृत्‍व में ही भारतीय सेना ने 2016 में पाकिस्‍तान में घुसकर सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी।

 

लेफ्टिनेंट जनरल दीपेन्द्र सिंह से पूछा गया था कि क्या सेना फिर से सर्जिकल स्ट्राइक कर सकती है ? के जबाब में उन्होंने बताया कि भारतीय सेना एक सक्षम सेना है यदि ऐसी आवश्यकता पङ़ती है तो निश्चित ही इसका पुनः प्रयोग कर सकते हैं लेकिन यह सब बताकर नहीं किया जाता।

 

भय में है पाकिस्‍तानी सेना,  उसकी हर हरकत का दस गुना जवाब दे रहे हैं हम

यूथ इन एक्शन की तरफ से आयोजित पत्रकार वार्ता में सवालों का जबाब देते हुए लेफ्टिनेंट जनरल दीपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा कि भारतीय सेना पाकिस्तान की हर हरकत का दस गुना जवाब दे रही है। चाहे शेलिंग का मसला हो या फिर सैनिकों के शहादत का बदला हो सेना के हाथ पूरी तरह खुले हुए हैं। हमारी सेना प्रचार में विश्वास नहीं रखती। सेना के जबाबी कार्यवाईयों से पाकिस्तानी सेना में भय की स्थिति है।

 

हाल में रिलीज फिल्म ऊरी, सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल का जबाब देते हुए कहा कि फिल्म में सारी सच्चाई तो नहीं दिखायी जा सकती क्योंकि यह एक संवेदनशील मसला है लेकिन उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत रूप से उन्हें फिल्म बहुत पसंद आयी।

रक्षा सौदों पर नहीं होनी चाहिये राजनीति

एक अन्य सवाल के जबाब में उन्होंने बताया कि देश को नये और अत्याधुनिक रक्षा उपकरणों की आवश्यकता है, इसलिए रक्षा सौदों को राजनीति से बाहर निकालकर जल्द से जल्द अत्याधुनिक उपकरणों को सेना को मुहैया कराया जाना चाहिए।

 

यह भी पढ़ें-महात्‍मा गांधी ने भी अपनाया था नेताजी सुभाष चंद्र बोस का नारा