Saturday , November 27 2021

जरूरत पड़ी तो करना होगा बड़ा आंदोलन, साथी कर्मचारी मनोबल बनाये रखें

-राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद के पदाधिकारियों ने जुबिली कॉलेज पहुंच कर बढ़ाया कर्मचारियों का हौसला

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद ने साथी कर्मचारियों से कहा है कि अपने हक की मांग के लिए हम लोग चरणबद्ध तरीके से आंदोलन करके राज्‍य सरकार से लगातार अपनी गुहार लगा रहे हैं, आंदोलन की रूपरेखा से भी सरकार को अवगत कराया जा चुका है, लेकिन अब तक सरकार ने इस विषय में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। आप लोग हौसला बनाये रखिये, जरूरत पड़ी तो हमें अपने हक को लेने के लिए लम्‍बे आंदोलन करना पड़ेगा। इसके लिए हम सभी को तैयार रहना होगा।

यह बात राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद के लखनऊ के जिलाध्‍यक्ष सुभाष श्रीवास्‍तव ने शनिवार को यहां जुबिली कॉलेज में आयोजित बैठक में कर्मचारियों का आह्वान करते हुए कही। ज्ञात हो लम्बित मांगों को पूरा करने, रोके गये महंगाई भत्‍ते की बहाली और एरियर आदि मांगों को लेकर राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद आंदोलनरत है, पिछले दिनों काला फीता बांधकर विरोध प्रकट किया गया, अब कार्यालयों में गेट मीटिंग कर कर्मचारियों को अपने हक की लड़ाई के लिए चरणबद्ध तरीके से किये जा रहे आंदोलन के बारे में जागरूक किया जा रहा है।

कर्मचारियों को बताया जा रहा है कि आजकल चल रही गेट मीटिंग के बाद 18 मार्च को उपवास और प्रदर्शन का कार्यक्रम है, फि‍र भी अगर सरकार ने नहीं सुना तो बड़े आंदोलन के लिए तैयार रहना होगा। इसी कड़ी में शनिवार को जनपद शाखा लखनऊ के पदाधिकारियों ने जुबली कॉलेज में सभी कर्मचारियों की बैठक की, जिसकी अध्यक्षता परिषद के जिला अध्यक्ष सुभाष श्रीवास्तव ने और संचालन मंत्री संजय पांडे ने किया।

बैठक का आयोजन राजकीय शिक्षक संघ के कार्यकारी अध्यक्ष ए के गौतम ने किया। उपस्थित कर्मचारियों ने रोष प्रकट करते हुए कहा कि सरकार कर्मचारियों के साथ सौतेला रवैया अपना रही है। महंगाई भत्ते बंद होने से कर्मचारियों की लाखों रुपए की क्षति हो चुकी है, वर्तमान बजट में सरकार द्वारा इसकी घोषणा नहीं की गई, तत्काल महंगाई भत्ते को बहाल किया जाना चाहिए, साथ ही अब तक का एरियर भी प्रदान किया जाना चाहिए।

बैठक को संबोधित करते हुए अध्यक्ष सुभाष श्रीवास्तव ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली, वेतन विसंगति दूर करने, निजीकरण व्यवस्था समाप्त कर स्थाई नौकरियां देने, संविदा और आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को नियमित कर उनका भविष्य सुरक्षित करने की नीति बनाने सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर कर्मचारी सांकेतिक आंदोलन कर रहे हैं लेकिन सरकार द्वारा कोई भी वार्ता तक आयोजित नहीं की गई। इसके पूर्व कर्मचारियों ने 10 दिन तक काला फीता बांधकर विभिन्न कार्यालयों में अपना विरोध प्रकट किया था।

परिषद के मंत्री संजय पांडे ने कहा कि कर्मचारी अब आंदोलन को मजबूर है इसलिए इस चरण में जनपद के सभी कार्यालयों में सभाएं और गेट मीटिंग की जा रही हैं। कर्मचारियों को जागरूक करने के लिए परचा और पोस्टर भी बांटा जा रहा है साथ ही आम जनता को भी परिषद की मांगों से अवगत कराया जा रहा है। उपाध्यक्ष विनोद तिवारी ने कहा कि 18 मार्च को लखनऊ जनपद के कर्मचारी एक दिवसीय उपवास रखते हुए धरना देंगे और धरने के पश्चात मुख्यमंत्री मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव कार्मिक को ज्ञापन प्रेषित किया जाएगा। इसके बाद भी अगर सरकार द्वारा मांगों पर कार्यवाही नहीं होती है तो बड़ा आंदोलन परिषद द्वारा घोषित कर दिया जाएगा।

जुबि‍ली कॉलेज के कर्मचारियों को परिषद के मीडिया प्रभारी सुनील कुमार, कमल श्रीवास्तव, जी सी दुबे, राजेश चौधरी, सतीश यादव, अशोक कुमार, प्रवीण यादव, आदि ने भी संबोधित किया। बैठक में जुबि‍ली कॉलेज की स्थानीय समस्याओं पर भी चर्चा हुई।