Saturday , October 1 2022

डॉ गिरीश गुप्‍ता को एक और उपलब्धि, अब नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ होम्‍योपैथी की गवर्निंग बॉडी में हुए नामित

-केंद्रीय आयुष मंत्री ने किया नामित, पहले नेशनल कमीशन की होम्योपैथी एजुकेशन बोर्ड की रिसर्च कमेटी में भी हो चुके हैं नामित

डॉ गिरीश गुप्ता

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा राजधानी लखनऊ स्थित गौरांग क्लिनिक एंड सेंटर फॉर होम्योपैथिक रिसर्च के संस्थापक व चीफ कंसल्टेंट डॉ गिरीश गुप्ता को होम्‍योपैथी का एम्‍स माने जाने वाले नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ होम्योपैथी (एनआईएच) कोलकाता की गवर्निंग बॉडी में सदस्य के रूप में नामित किया गया है।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ होम्योपैथी कोलकाता के निदेशक डॉ सुभाष सिंह द्वारा इस आशय का पत्र डॉ गिरीश गुप्ता को प्रेषित किया गया है। पत्र के अनुसार भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ होम्योपैथी कोलकाता की गवर्निंग बॉडी का बीती 11 मार्च को पुनर्गठन किया गया है। आयुष मंत्रालय के केंद्रीय मंत्री, जो कि इस गवर्निंग बॉडी के अध्यक्ष होते हैं, ने डॉ गिरीश गुप्ता को सदस्य के रूप में नामित किया है। पुनर्गठित की हुई गवर्निंग बॉडी का कार्यकाल 11 मार्च 2022 को प्रारंभ हो गया है जो कि अगले 3 साल तक चलेगा। इसके तहत इस गवर्निंग बॉडी में चुने जाने वाले सदस्यों का कार्यकाल भी 3 साल रहेगा।

ज्ञात हो इससे पूर्व डॉ गिरीश गुप्ता को बीते नवंबर 2021 में नेशनल कमीशन फॉर होम्योपैथी के होम्योपैथी एजुकेशन बोर्ड की रिसर्च कमेटी में भी नामित किया जा चुका है। डॉ गुप्‍ता ने होम्‍योपैथी की मूल भावना क्‍लासिकल होम्‍योपैथी पद्धति से उपचार करते हुए अनेक असाध्‍य रोगों के उपचार के लिए दवाओं पर रिसर्च की है, जिनका अनेक राष्‍ट्रीय व अंतर्राष्‍ट्रीय जर्नल्‍स में प्रकाशन हो चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

19 + 13 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.