आखिर क्‍यों नहीं करना चाहिये एक गोत्र और खून के रिश्‍ते में विवाह

जन्मजात शारीरिक और मानसिक विकृतियों का बड़ा कारण है ऐसा करना

कुछ बच्‍चों में जन्‍मजात शारीरिक एवं मानसिक विकृतियां पायी जाती हैं। इसके अनेक कारण हैं, इनमें कुछ अनुवांशिक होते हैं तो कुछ गर्भावस्‍था के दौरान हुई चूक के कारण होते हैं। सेलेब्रल पाल्‍सी एक ऐसा ही रोग है जो जन्‍मजात होता है। इसके कारणों को जानने की एक कोशिश किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍व विद्यालय के फि‍जिकल मेडिसिन एंड रिहैबिलिटेशन विभाग के वर्कशॉप मैनेजर अरविन्‍द कुमार निगम ने की, इसके बाद वे जिस नतीजे पर पहुंचे उसके कारणों को अपने लेख के माध्‍यम से उजागर किया है। अपनी इस स्‍टडी को श्री निगम ने पिछली 12-13 जुलाई को डॉ शकुन्‍तला मिश्रा नेशनल रिहैबिलिटेशन यूनिवर्सिटी में सेरेब्रल पाल्‍सी पर आयोजित सतत पुनर्वास शिक्षा (सीआरई) में अपने व्‍याख्‍यान में प्रस्‍तुत किया था। अरविन्‍द कुमार निगम करीब चार दशकों से दिव्‍यांग बच्‍चों के उपकरण निर्माण और उनके पुनर्वास में तब से कार्यरत हैं जब वर्तमान का डीपीएमआर पुनर्वास एवं कृत्रिम अंग केन्‍द्र (आरएएलसी) नाम से जाना जाता था।   

 

अरविन्‍द कुमार निगम

विश्व में जन्मजात शारीरिक और मानसिक विकृतियों वाले बच्चों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसकी जड़ में जाने पर पता लगता है कि अधिकांश देशों में इस प्रकार की सामाजिक और धार्मिक मान्यताएं बनी हुई हैं जिनमें विवाह संबंध पति और पत्नी के सीधे रक्तसंबंधियों में ही किए जाने की परम्पराओं का पालन किया जाता है। जीवविज्ञानी यह स्पष्ट करते हैं कि समान रक्त संबंधियों में मस्तिष्क विकार, अनुवांशिक असामान्यताएं, कैंसर जैसी बीमारियां और अन्य गंभीर मानसिक विकृतियों का जन्म होता है। आज के भौतिकवादी समाज में युगलों को केवल आसक्ति के मोहजाल में फंसकर वैवाहिक बंधन में बंधते हुए देखा जाता है जो इन ‘संकीर्ण जीन पूल्स’ के दुष्परिणामों से अनजान रहकर बाद में आजीवन कष्ट भोगते देखे गए हैं क्योंकि उनकी संतान असाध्य रोगों से जूझते हुए मरणासन्न ही बनी रहती हैं।

 

इसलिए जहां तक संभव हो भावी पतियों और पत्नियों को अपनी आनुवांशिक पृष्ठभूमि का परीक्षण और यौन जनित रोगों, ‘‘एच आई वी और एड्स’’ आदि की जानकारी जुटा कर ही संबंध बनाना चाहिए। इस प्रकार की सावधानियां रखने पर ही मजबूत, स्वस्थ, जीवन्त और बुद्धिमान संतान को संसार में लाया जा सकता है। यह तभी हो सकता है जब विवाह विविध आनुवांशिक ‘मेकअप’ बनाने को ध्यान में रखकर किया जाय।

 

भारत की हजारों वर्ष पुरानी संस्कृति में इस बात का ध्यान रखा गया है और, हमारे पूर्वजों ने ‘समगोत्रीय विवाह’ को प्रारंभ से ही वर्जित बताया है। ज्योतिष में भी गुण मिलान करते समय ‘‘नाड़ी’’ दोष होने पर विवाह को श्रेष्ठ नहीं माना जाता। नाड़ी को ‘ब्लड ग्रुप और जीन्स’ से संबंधित माना जाता है। इस व्यवस्था के पीछे मनीषियों का यही विचार था कि हमारी भावी सन्तान गतिशील,स्वस्थ, प्रबल और उन्नत मस्तिष्क की हो। वे देश, जहां केवल समगोत्रीय विवाहों की ही परम्परा है और इसे ही सर्वोत्तम मानकर धार्मिक आधार दिया गया है उन देशों के नागरिकों में मस्तिष्क विकार, अनुवांशिक असामान्यताएं, कैंसर जैसी बीमारियां और अन्य गंभीर मानसिक विकृतियों का होना आम बात है। ‘विकीपीडिया ’ के अनुसार संसार में अन्य देशों की तुलना में, ‘अरब देशों ’ में सबसे अधिक आनुवांशिक विकृतियां पाई जाती हैं। सऊदी अरब सहित मध्य पूर्व के अनेक देशों में 70 प्रतिशत से भी अधिक समगोत्रीय विवाह होते हैं। इराक में 33 प्रतिशत और अफगानिस्तान में 30 से 40 प्रतिशत तक इस प्रकार के विवाह होते हैं। इन स्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए दुबई के एक अनुसंधान केन्द्र ‘अरब जैनोमिक स्टडीज’ ने अपने शोध परिणामों के आधार पर इन देशों को सचेत करने का कार्य प्रारम्भ कर दिया है, इसे भावी पीढ़ियों के लिए हितकारक ही माना जाना चाहिए।