Saturday , January 29 2022

लॉकडाउन की स्थिति की समीक्षा करने के बाद योगी ने दिये कई निर्देश

-सोशल डिस्‍टेंसिंग बनाते हुए अस्‍पतालों में ओपीडी चलाने के निर्देश
-सरकारी कर्मचारियों के वेतन से कटौती न करने का भी निर्देश
-मुख्‍यमंत्री ने लॉकडाउन की सफलता को ही कोरोना का सफल उपचार बताया

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि लॉकडाउन की सफलता ही कोरोना कोविड-2019 का सफल उपचार है इसलिए लॉकडाउन का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ ही मुख्‍यमंत्री ने राज्‍य सरकार के कर्मचारियों के वेतन में कोई कटौती न करने, सोशल डिस्‍टेंस बनाकर ओपीडी संचालन के निर्देश सहित लॉकडाउन के दौरान आवश्‍यक वस्‍तुओं की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश भी अधिका‍रियों को दिये।

मुख्‍यमंत्री ने ये निर्देश लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा के लिए आहूत बैठक में देते हुए कहा कि आर्मी मेडिकल कोर, केंद्र तथा राज्य सरकार के सेवानिवृत्त चिकित्सकों तथा पैरामेडिकल स्टाफ की सेवाएं ली जाएं तथा उनके भी पास निर्गत किये जाएं। उन्होंने कहा कि आमजन को चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध हो सके इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन के अनुसार सोशल डिस्टेंसिंग अपनाते हुए ओपीडी संचालित की जाए। आपको बता दें वर्तमान समय में अस्पतालों में ओपीडी की सेवा स्थगित चल रही है, सिर्फ इमरजेंसी वाले मरीजों का इलाज हो रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि आवश्यकतानुसार फोन के माध्यम से मरीजों को परामर्श दिया जाए।

इसके साथ ही उन्होंने पीपीई किट, मास्क आदि की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी सप्लाई चेन बनाने के निर्देश भी दिए, साथ ही कोरोना वायरस की जांच के लिए टेस्टिंग किट की संख्या भी बढ़ाने को कहा। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन से प्रभावित नागरिकों को किसी भी प्रकार की कोई समस्या ना आने पाए, उनके भोजन व स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए और आवश्यकता की दशा में उन्हें उपचारित किया जाए।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना के दृष्टिगत किए जा रहे कार्यों की विस्तृत रिपोर्ट प्रधानमंत्री, गृहमंत्री तथा प्रदेश की राज्यपाल को उपलब्ध कराई जाए। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि लॉकडाउन की अवधि में इंडस्‍ट्रीज से बिजली का फिक्स चार्ज न लिये जायें। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि अन्य राज्यों से आए लोगों को उनके गांव में भेजने से पहले जनपद स्तर पर शेल्टर होम्स स्थापित कर क्वॉरेंटाइन में रखा जाए, शेल्टर होम्स में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जाए, इसके साथ ही वहां भोजन, पेयजल, दवा आदि की पूरी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

उन्होंने यह भी कहा कि नवरात्रि के व्रत रखने वालों को फलाहार उपलब्ध कराया जाए। स्‍वास्‍थ्‍य व सेनिटाइजेशन की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग व नगर विकास विभाग संयुक्‍त रूप से टीम बनायें। उन्‍होंने कहा कि मंडी में साफ-सफाई का विशेष ध्‍यान रखा जाये, गेहूं की खरीद 15 अप्रैल से की जानी है। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सभी आवश्यक वस्तुओं की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित की जाए तथा सप्लाई चेन में किसी प्रकार की रुकावट ना आने पाए। किराना आदि की दुकानों में जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित की जाए, जिससे आमजन को किसी भी परेशानी का सामना ना करना पड़े। इसके साथ ही सभी जनपदों में आवश्यक वस्तु की रेट लिस्ट जारी कराकर कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए उन्होंने अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त को निर्देश दिया कि आटा मिलें, दाल मिलें व तेल मिलें स्‍वास्थ्य विभाग के दिशा निर्देशों के क्रम में संचालित की जाएं।

बैठक में मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव कुमार मित्तल, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक हितेश सी अवस्थी, अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल तथा संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।