Sunday , April 14 2024

चलायमान मन को बांधता है योग, जिससे मिलती है एकाग्रता

-डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्‍थान में मनाया गया अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस

सेहत टाइम्‍स 

लखनऊ। 9वें अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस 2023 के उपलक्ष्य में डा0 राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान की कुलाधिपति के निर्देशानुसार, विश्व योग दिवस मनाया गया। संस्थान में योग कार्यक्रम एकेडमिक ब्लॉक के प्रांगण में प्रातः 7  बजे से प्रारम्भ किया गया। संस्थान द्वारा आयोजित योग शिविर में संस्थान की निदेशक प्रो0 सोनिया नित्यानन्द, डीन प्रो0 नुजहत हुसैन, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक प्रो0 अजय कुमार सिंह एवं ईआर प्रो0 वीरेन्द्र सिंह गोगिया व अन्य अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

योग प्रशिक्षण में प्रो0 विनीता मित्तल (योग संचालन सचिव) द्वारा समस्त प्रतिभागियों का स्वागत किया गया, जिसके उपरान्त योगाचार्य द्वारा योग प्रशिक्षण शिविर का आरम्भ किया गया। योग प्रशिक्षण शिविर में समस्त विभागाध्यक्ष, संकाय सदस्यों, शिक्षणेत्तर अधिकारियों, कर्मचारियों, रेजीडेन्ट्स, यू0जी0, पी0जी0 तथा अन्य पैरामेडिकल, पाठ्यक्रमों के लगभग 600 लोगों ने योगाचार्य ओम नरायण अवस्थी के नेतृत्व में योग प्रशिक्षण लिया।

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि युद्धवीर सिंह सेवा प्रमुख पूर्वी क्षेत्र पूर्व प्रांत प्रचारक, उत्तराखण्ड का पुष्प-गुच्छ एवं योग नृत्य से अभिनन्दन योग प्रशिक्षण शिविर में किया गया। इसके बाद 20 जून को संस्थान में एमबीबीएस एवं बीएससी नर्सिंग के छात्रों द्वारा जो रंगोली एवं पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था उसका भी अवलोकन किया गया। अवलोकन उपरान्त मुख्य अतिथि, समस्त गणमान्य सदस्यों एवं छात्र ने लेक्चर थियेटर 5 में आगे के कार्यक्रम के लिए प्रस्थान किया। दीप प्रज्ज्वलन एव सरस्वती वन्दना के उपरांत डीन प्रो0 नुजहत हुसैन ने संस्थान में योग उत्सव पर आयोजित कार्यक्रमों का विवरण दिया।

एमबीबीएस छात्र श्रीगोपाल, शिवानी राय तथा नर्सिंग की छात्रा प्राक्षी त्रिपाठी द्वारा योग के परिप्रेक्ष्य में अनुभव कथन किया गया। इस कार्यक्रम में उपस्थित सभी सदस्यों को निदेशक द्वारा संबोधित किया। जिसमें उन्होने हर घर आंगन योग के तर्ज पर समस्त छात्रों एवं संकाय सदस्यो को योग करने के लिए प्रेरित किया।

मुख्य अतिथि द्वारा संस्थान के समस्त कर्मचारियों को संबोधित करते हुये जीवन में योग के महत्व पर प्रकाश डाला।  उन्होनें बताया कि हमारा मन चलायमान है, योग हमारे मन को बांधता है। योग से मन एकाग्र होता है और छात्र जीवन में एकाग्रता की अत्यंत आवश्यकता होती है। छात्र जीवन में समय के महत्व पर बल देते हुये व्यक्त किया कि सबके पास 24 घण्टे होते हैं। हमारे जीवन में उसका उपयोग कैसे किया जाता है उसी पर हमारी सफलता निर्भर करती है।

इस अवसर पर दस दिन चले योग उत्सव में योग प्रशिक्षण देने वाले समस्त योगाचार्यो को मुख्य अतिथि द्वारा सम्मानित किया गया। संस्थान में आयोजित एक दिवसीय रंगोली एवं पोस्टर प्रतियोगिता के विजेता छात्रों को मुख्य अतिथि द्वारा पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। आयोजन सचिव प्रो विनीता मित्तल द्वारा धन्यवाद ज्ञापन एवं राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.