भाजपा विधायक और सीएमओ के बीच विवाद गहराया, स्वास्थ्य महकमा लामबंद

 

मुख्य चिकित्सा अधिकारी और विधायक के बीच एएनएम के ट्रान्सफर को लेकर हुआ था विवाद

 

लखनऊ. हरदोई में मुख्य चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय में भाजपा के विधायक आशीष कुमार सिंह आशू व मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. पीएन चतुर्वेदी के बीच हुआ विवाद गहरा गया है. स्थानीय विधायक द्वारा किये गए दुर्व्यवहार के विरुद्ध स्वास्थ्य विभाग के हर वर्ग में जबरदस्त रोष है. आज इस मामले को लेकर राजकीय चिकित्सा सेवा के समस्त प्रान्तीय संघों के पदाधिकारियों की बैठक कर घटना पर आक्रोश व्यक्त किया और विधायक के विरुद्ध कार्यवाही की मांग की गई.

 

ज्ञात हो दो दिनों पूर्व भाजपा विधायक और मुख्य चिकित्साधिकारी के बीच विवाद तब उत्पन्न हुआ था जब विधायक एक एएनएम का ट्रान्सफर कराने की सिफारिश लेकर सीएमओ के पास गए थे. आरोप हाई कि जब सीएमओ ने ट्रान्सफर करने में असमर्थता जाहिर की तो विधायक ने सीएमओ को उन्हीं के ऑफिस में बंधक बना लिया. इसके विपरीत विधायक ने इन आरोपों को झुठलाते हुए कहा है कि बंधक मैंने सीएमओ को नहीं सीएमओ ने मुझे बंधक बनाया था.

 

प्रान्तीय चिकित्सा सेवा संघ के साथ आज हुई बैठक में डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन, लैब टेक्नीशियन संघ, ऑप्टोमेट्रिस्ट संघ, डेंटल हाइजेनिस्ट संघ, फिजियोथेरेपिस्ट संघ, महानिदेशालय मिनिस्ट्रियल कर्मचारी संघ सहित प्रमुख संघो के फेडरेशन, संयुक्त राज्य चिकित्सा कर्मचारी संघ, मिनिस्ट्रियल असोसिएशन, वाहन चालक संघ, राजकीय फार्मासिस्ट महासंघ, बीएचडब्ल्यू संघ, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संघ और स्टीवर्ड संघ के पदाधिकारियों ने प्रदेश में होने वाली अप्रिय घटनाओं पर अत्यंत चिंता व्यक्त की। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी अब एक मंच पर आएंगे.

आज हुई  बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि यदि अतिशीघ्र हरदोई प्रकरण पर कार्यवाही नहीं हुई तो प्रदेश के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी एक साथ आंदोलन की रणनीति तय करेंगे. सभी पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि चिकित्सा कर्मचारियों और अधिकारियों को पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करे जिससे कि भयमुक्त वातावरण में जनहित के कार्य कर सके.

 

आज की बैठक में प्रान्तीय चिकित्सा सेवा संघ के महासचिव डॉ अमित सिंह , संयुक्त सचिव डॉ मोहित और डॉ डीके सिंह, सचिव लखनऊ अनूप बाजपेयी, सचिव हरदोई डॉ शरद और वित्तसचिव बाराबंकी डॉ एनके यादव, नर्सेज संघ के महामंत्री अशोक कुमार, डिप्लोमा फार्मासिस्ट असोसिएशन के महामंत्री केके सचान, राजकीय फार्मासिस्ट महासंघ के अध्यक्ष सुनील यादव, मिनिस्ट्रियल संवर्ग के गिरिजेश पांडेय, संजय रावत, शिव सागर शुक्ला, अरुण शुक्ला, भूपेश द्विवेदी आदि उपस्थित रहे.

 

ज्ञात हो सोमवार को विधायक पर सीएमओ को बंधक बनाने का आरोप लगाते हुए जिले भर के डॉक्टर व चिकित्सा कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं. जिसके चलते मरीजों को भारी दिक्कत हो रही है. प्रदर्शनकारियों ने विधायक द्वारा माफी न मांगने तक हड़ताल जारी रखने का ऐलान किया है।  इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर अन्य सारे काम ठप कर दिए गए हैं.