Wednesday , February 1 2023

प्रो धीमन की पहल रंग लायी, बढ़-चढ़कर शोध कर रहे शोधार्थी

-संजय गांधी पीजीआई में मनाया जा रहा तीसरा शोध दिवस

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान  लखनऊ की शोध इकाई के द्वारा 13 दिसंबर को संस्थान का तृतीय शोध दिवस मनाया जाएगा। वर्ष 2020 में संस्थान के निदेशक प्रो आर के धीमन के कुशल नेतृत्व व मार्गदर्शन में संस्थान ने प्रथम बार शोध दिवस का आयोजन किया था।

संकाय प्रभारी, शोध, प्रो यू सी घोषाल ने बताया कि शोध संस्थान के तीन महत्वपूर्ण स्तंभों में से एक है। यह तीन स्तंभ है-  रोगी सेवा, शिक्षण और शोध। शोध रोगियों को ऐसी गुण परक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में मदद करता है, जिन्हें स्थानीय आवश्यकता के अनुसार कम लागत में विकसित किया जाता है। शोध के द्वारा हम नई तकनीक व अविष्कार से अपने देश में ही वस्तुओं का निर्माण कर सकते हैं। शोध इकाई के सहायक प्रभारी डॉ सी पी चतुर्वेदी ने बताया कि इस दिन संस्थान के संकाय सदस्य, विद्यार्थी और रिसर्च स्कॉलर अपने शोध प्रपत्र प्रस्तुत करेंगे, जिनसे ज्ञान का आदान-प्रदान होगा। 

2020 में एसजीपीजीआई में अनुसंधान दिवस मनाने की इस परंपरा की शुरुआत करने वाले निदेशक प्रो आर के धीमन ने खुशी जताई कि इससे शोधकर्ताओं में जागरूकता और उत्साह बढ़ा है क्योंकि पिछले वर्षों की तुलना में पोस्टर प्रस्तुतियों की संख्या में काफी वृद्धि हुई है। इससे संस्थान में इंट्राम्यूरल और एक्स्ट्रा म्यूरल ग्रांट में भी बढ़ोतरी हुई है। केजीएमयू, आरएमएल, सीडीआरआई और आईआईटीआर जैसे अन्य संस्थानों के वरिष्ठ संकाय सदस्य पोस्टरों का मूल्यांकन करेंगे।

इसके अलावा, अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों के संकाय सदस्य संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान में आगे के अनुसंधान को बढ़ावा देने और मार्गदर्शन करने के लिए प्रेरक व्याख्यान देंगे। कार्यक्रम में जो  अतिथि वक्ता हिस्‍सा लेंगे उनमें निदेशक,  डॉ. आरएमएलआईएमएस और पूर्व प्रोफेसर और प्रमुख, हेमेटालाजी विभाग प्रो. सोनिया नित्यानंद, कुलपति, श्री बालाजी विद्यापीठ, पांडिचेरी, निदेशक और डीन (अनुसंधान) JIPMER, पांडिचेरी डॉ. एस सी परीजा और एसजीपीजीआई से पीएचडी नेवादा विश्वविद्यालय, रेनो स्कूल ऑफ मेडिसिन, यूएसए के डॉ. राजन सिंह शामिल हैं।

विगत वर्ष की भांति  इस वर्ष भी संकाय सदस्यों के साथ-साथ विद्यार्थी भी अपने शोध कार्यों को प्रस्तुत करेंगे। इस वर्ष  220 शोध पत्र (140 छात्र और 80 संकाय सदस्यों  द्वारा ) प्रस्तुत किए गए हैं। प्रस्तुत शोध कार्यों के आधार पर 14 दिसम्‍बर को संस्थान के 39वें स्थापना दिवस पर संकाय सदस्य वर्ग में 12 एवं छात्र वर्ग में 10 पुरस्कार प्रदान किये जायेंगे। इन पुरस्कार विजेताओं के नाम उनकी फोटो के साथ स्थापना दिवस समारोह में प्रदर्शित किए जाएंगे, जिससे उनके सहयोगियों और शोधार्थियों को विशेष प्रोत्साहन मिले और बेहतर करने की प्रेरणा मिले। संस्थान की शोध इकाई द्वारा उन संकाय सदस्यों को भी सम्मानित किया जाएगा, जिन्हें यू एस ए के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार विश्व के 2% उत्कृष्ट वैज्ञानिकों में सम्मिलित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

13 + 9 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.