Thursday , October 28 2021

प्रमुख सचिव ने दिया आश्‍वासन, कर्मचारियों के साथ कोई अन्‍याय नहीं होगा

-लोहिया संस्‍थान में कर्मियों को हटाने के प्रकरण में आलोक कुमार ने दिया आश्‍वासन

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्‍थान से सम्‍बद्ध होकर कार्य कर रहे 9 कर्मचारियों को संस्‍थान से हटाये जाने के मामले में लोहिया कर्मचारियों की समस्या को लेकर प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा आलोक कुमार ने आश्‍वस्‍त किया है कि शीघ्र ही समस्‍या का समाधान किया जायेगा। उन्होंने कर्मचारियों से अपील की कि वर्तमान परिवेश में कोविड-19 के कहर को देखते हुए पूर्ण निष्ठा से जनता की सेवा करें। कर्मचारियों के साथ कोई अन्याय नही होगा सरकार कर्मचारियों की समस्याओं के प्रति गम्भीर है।

राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद के महामंत्री अतुल मिश्रा के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा आलोक कुमार से भेंट कर उनके समक्ष दस्‍तावेजों के साथ अपनी बात रखी। यह जानकारी परिषद के महामंत्री अतुल मिश्रा ने देते हुए बताया कि बीती 1 जून को निदेशक डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान गोमती नगर लखनऊ द्वारा डॉ राम मनोहर लोहिया संयुक्त चिकित्सालय में विलय से पहले कार्यरत कर्मचारियों, जिनकी प्रतिनियुक्ति पर तैनाती संस्‍थान द्वारा की गयी लिखापढ़ी में गलती के कारण नहीं हो पाई थी, इसलिए शासन द्वारा उन्‍हें संस्‍थान से सम्‍बद्ध कर दिया गया था।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि इस संबंध में 4 अक्टूबर 2019 को शासन में हुई बैठक में अधिकारियों के समक्ष समझौता हुआ था कि बचे हुए कर्मचारियों को अतिशीघ्र जो कमियां हैं उनको दूर कराकर प्रतिनियुक्ति  पर ले लिया जाएगा। इस बारे में संस्‍थान द्वारा कुछ लोगों को प्रतिनियुक्ति दी गयी जबकि नौ कर्मचारियों का मामला लटका रहा।   अतुल मिश्रा ने बताया कि इस प्रकरण के सम्बंध में प्रमुख सचिव चिकिसा शिक्षा से डी डी त्रिपाठी व अनिल कुमार के साथ एनेक्सी में भेंट हुई। इसमें विस्तृत चर्चा हुई व सारे पूर्व की सहमतियों से सम्बंधित पत्र को दिखा कर रिलीविंग ऑर्डर को निरस्त करने का अनुरोध किया गया जिस पर उन्होंने आश्वस्त किया की प्रकरण पर शीघ्र ही अपेक्षानुसार सकरात्मक निर्णय लिया जाएगा।