Thursday , May 26 2022

अस्पतालों से लेकर अन्य कार्यालयों में बड़े आंदोलन की तैयारियां पूरी

11-12 अक्‍टूबर को कार्य बहिष्‍कार से पहले 1 से 10 अक्‍टूबर तक गेट मीटिंग करके करेंगे जनजागरण  

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश के प्राथमिक स्वास्‍थ्‍य केंद्र से लेकर बड़े अस्‍पतालों तक के कर्मचारियों सहित राज्‍य सरकार के विभिन्‍न विभागों के राज्‍य कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर बड़े आंदोलन की तैयारी कर चुके हैं, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उ प्र के आवाह्न पर 11-12 अक्टूबर को प्रस्तावित प्रदेश व्यापी कार्य बहिष्‍कार से पहले 1 अक्‍टूबर से 10 अक्‍टूबर तक अस्‍पतालों और कार्यालयों पर गेट मी‍टिंग कर जनजागरण अभियान की तैयारी को अंतिम रूप दे दिया गया है। टीमों को तैयार कर उन्‍हें उनके जनजागरण अभियान के क्षेत्रों  की जानकारी दे दी गयी है।

 

आंदोलन की तैयारी के सम्बन्ध में जनपद शाखा लखनऊ की एक अतिआवश्यक बैठक परिषद के जिला अध्यक्ष सुभाष श्रीवास्तव की अध्यक्षता में आज संघ कार्यालय डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन उप्र बलरामपुर चिकित्सालय लखनऊ में सम्पन्न हुई। जिसमें परिषद से सम्बद्ध संगठनों के प्रान्तीय पदाधिकारी एवं लखनऊ जनपद शाखा के अधिकांश संगठनों के जनपदीय अध्यक्ष/मंत्री उपस्थित हुए। बैठक में परिषद के जिला अध्यक्ष सुभाष श्रीवास्तव ने बताया कि कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान के लिए परिषद के प्रांतीय पदाधिकारियों ने सरकार का ध्यान आकर्षण के लिए अनेक कार्यक्रम घोषित किए जिसको जनपद शाखा के कर्मचारियों ने पूर्ण भागीदारी कर सफल बनाया उसके उपरांत भी सरकार द्वारा समस्याओं के निस्तारण के सम्बंध में कोई प्रभावी कार्यवाही नहीं की जिससे समस्याएं यथावत बनी हुई हैं। अधिकांश मांगों पर मुख्य सचिव के साथ सम्‍पन्‍न हुई बैठक में सहमतियां व्याप्त हैं उस पर भी क्रियान्वयन नहीं किया जा रहा है। पुरानी पेंशन बहाली, निजीकरण, आउटसोर्सिंग एवं ठेकेदारी व्यवस्था समाप्त कर कार्यरत कर्मचारियों को विनियमित करने, वेतन विसंगति ,भत्तों की रिपोर्ट वित्त विभाग में लंबित पड़ी है, कैशलैस इलाज का लाभ आज तक कर्मचारियों को नहीं मिल पा रहा है।

इसके अतिरिक्‍त कैडर पुनर्गठन, 50 वर्ष के ऊपर जबरन सेवानिवृत्त, फील्ड कर्मचारियों को मोटरसाइकिल भत्ता, उपार्जित अवकाश के संचय की 300 दिन की सीलिंग समाप्त कर अवकाश नकदीकरण 600 दिन किया जाए, तीन पदोन्नति वेतनमान, सेवानिवृत्त आयु बढ़ाकर 62 वर्ष की जाये आदि मांगों को लेकर कर्मचारियों में काफी आक्रोश व्याप्त है। बैठक में उपस्थित सभी पदाधिकारियों ने ऊक्त आंदोलन को सफल बनाने का संकल्प लिया।

 

बैठक मे आंदोलन को सफल बनाने की रणनीति तैयार की गई जिसमें दिनांक 1 से 10 तारीख तक विभिन्न कार्यालयों में जनजागरण कार्यक्रम के लिए टीमों का गठन किया गया जो लखनऊ जनपद में 10 बड़े अस्पताल, 11 सीएचसी, 8 अर्बन सीएचसी, 33 पीएचसी, 52 अर्बन पीएचसी, इसके अतिरिक्त केजीएमयू, लखनऊ विश्वविद्यालय, वन विभाग, सिंचाई विभाग, समाज कल्याण, विकास भवन, परिवहन,  कृषि, गन्ना विभाग सहित सभी तहसील व ब्लॉक स्तर तक जनजागरण कार्यक्रम सम्पन्न टीमों द्वारा किया जायेगा।

 

बैठक में डॉ केके सचान, अतुल मिश्रा, अवधेश मिश्रा, विजय किशोर मिश्रा, बीएन मिश्रा, रणविजय सिंह, राजेश कुमार श्रीवास्तव, डीडी त्रिपाठी, अनिल कुमार, राम मनोहर कुशवाहा, सुनील यादव, कमल श्रीवास्तव, राजेश कुमार चौधरी, महेश, अजय पांडेय, नन्द किशोर, जेपी नायक आदि पदाधिकारी उपस्थित हुए।