Friday , October 7 2022

बहुत ज्‍यादा कॉल आती हैं तो साइलेंट मोड पर रखें फोन क्‍योंकि रिंग टोन भी देती है तनाव

तनाव को दूर, सौंदर्य को बरकरार रखने के टिप्‍स बताये डॉ वैभव खन्‍ना ने

-शरीर के अंगों के साथ ही चेहरे के सौंदर्य पर भी होता है तनाव का असर

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। तनाव सिर्फ आपकी सेहत ही नहीं बिगाड़ता है बल्कि सूरत पर भी अपना प्रभाव डालता है। यदि आप तनाव से दूर रहेंगे तो शरीर के अंगों को तो नुकसान से बचाएंगे ही, साथ ही चेहरे की रौनक भी निखरी रहेगी। आप समय से पहले बूढ़े तो नजर नहीं आएंगे, बल्कि आप अपनी वास्तविक उम्र से भी कम के दिखाई देंगे।

स्वास्थ्य और सौंदर्य के विशेषज्ञों का आज यहां गोमती नगर स्थित एक होटल में जमावड़ा लगा मौका था ऑल इंडिया कॉस्मेटोलॉजिस्ट एंड ब्यूटीशियंस एसोसिएशन के 20वें वार्षिक सम्मेलन का। इस विषय पर कॉन्‍फ्रेंस में एसोसिएशन के उपाध्यक्ष एवं वरिष्ठ प्लास्टिक सर्जन डॉ वैभव खन्ना ने कहा कि तनाव ऐसी चीज है जिसका असर आपके स्वास्थ्य एवं सुंदरता पर पड़ता है इसलिए तनाव को अपने से दूर रखें तो आप तन और मन दोनों से फिट रहेंगे।

डॉ वैभव ने कहा कि तनाव तो सभी को होता ही है, जरूरी यह है कि इसे कैसे कम किया जाये। इस‍के लिए आप सुबह डेढ़ घंटे कोई आउटडोर गेम जैसे बैडमिंटन, लॉन टेनिस, वॉलीबॉल आदि खेलें इससे जहां शारी‍रिक कसरत होती है वहीं आपका ध्‍यान इधर-उधर नहीं भटकता है, बॉल पर ध्‍यान लगा होने से एकाग्रता बढ़ती है। यदि आप वॉक करते हैं तो कान में कोई म्‍यूजिक, भजन आदि लगा लें ताकि आपके मन में दूसरे कोई विचार न आयें, और आपकी एकाग्रता बनी रहे।

उन्‍होंने कहा कि यदि आपके पास बहुत फोन आते हैं तो फोन को साइलेंट पर रखें जिससे आपको रिंग बजने का टेंशन न हो, फोन कॉल की रिंग से टेंशन होना आजकल बहुत कॉमन हो गया है। उन्‍होंने कहा कि एक्‍सरसाइज करें लेकिन अपने शरीर और एक्‍सरसाइज की नापतोल न करें कि मैंने आज इतनी एक्‍सरसाइज की, मेरे शरीर पर कितना फर्क पड़ रहा है, क्‍योंकि आप जो एक्‍सरसाइज कर रहे हैं वह आपको फि‍ट करने के लिए है तो आप फि‍ट‍ होंगे ही। इसको लेकर बहुत ज्‍यादा नापजोख से भी टेंशन पैदा होता है। डॉ वैभव खन्ना ने कहा कि सुबह की धूप में जरूर बैठना चाहिए। सुबह की धूप शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद है।

महिलाओं के लिए सुझाव देते हुए उन्‍होंने कहा कि बालों को हमेशा कलर करने की आदत न डालें क्‍योंकि बालों को रंगने वाले सभी रंगों में केमिकल होते हैं। उन्‍होंने कहा कि बहुत सी महिलाएं बालों को कलर करना अपना नियम बना लेती हैं, तरह-तरह के रंगों से बालों में कलर करती हैं। कभी दो-तीन महीने में पार्टी वगैरह में जाने पर बालों को कलर कर लें लेकिन अक्‍सर इसे नहीं करना चाहिये। उन्‍होंने कहा कि‍ जूस पीने के बजाय फल का सेवन करें, यह ज्‍यादा लाभकारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 + 15 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.