Thursday , October 28 2021

यूपी में कक्षा 1 से 8 तक के स्‍कूलों में 24 से 31 मार्च तक अवकाश

-कक्षा 9 से 12 के स्‍कूल परीक्षा होने की स्थिति में ही खुलेंगे

-गांवों व शहरों में दूसरे राज्‍यों से आने वालों पर नजर रखेंगे नोडल ऑफीसर

-यूपी में बढ़ते कोविड संक्रमण पर मुख्‍यमंत्री ने दिये कड़े निर्देश

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने होली सहित अन्य पर्वों व त्योहारों, पंचायत चुनाव तथा कोविड संक्रमण के बढ़ने की स्थिति को देखते हुए उत्तर प्रदेश में विशेष सतर्कता और सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में कक्षा 1 से 8 तक के सभी परिषदीय एवं निजी विद्यालयों में 24 से 31 मार्च तक होली के अवकाश की घोषणा की है, इसके साथ ही कक्षा 9 से 12 के विद्यार्थियों, जिनकी परीक्षा नहीं हो रही है, उन स्कूलों को भी 25 मार्च से 31 मार्च तक बंद करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि जिन शिक्षण संस्थानों में परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं, उन्हें पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार कोविड प्रोटोकॉल का पूर्णत: पालन करते हुए संपन्न कराया जाए।

मुख्यमंत्री ने ये निर्देश आज यहां अपने सरकारी आवास पर कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम को लेकर उच्च स्तरीय बैठक में दिये। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर तथा शहरों में वार्ड स्तर पर नोडल अधिकारी या कर्मचारी की तैनाती के निर्देश दिए हैं यह नोडल अधिकारी सुनिश्चित करेंगे कि उनके क्षेत्र में अन्य राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की जांच अवश्य की जाए। संदिग्ध पाए जाने पर उनके क्वारंटाइन की व्यवस्था और कोविड की आरटीपीसीआर जांच कराते हुए कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार कार्यवाही करने के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जनपद में एक-एक डेडीकेटेड कोविड अस्पताल की उपलब्धता सुनिश्चित की जानी चाहिए साथ ही आवश्यक मानव संसाधन और उपकरण उपकरणों की भी व्यवस्था सुनिश्चित की जाये।

मुख्यमंत्री ने कहा कि‍ पर्व और त्योहारों पर कोई रोक नहीं है, लेकिन कोविड संक्रमण के दृष्टिगत लोगों को जागरूक किया जाए, उन्होंने कहा कि बिना स्थानीय प्रशासन की पूर्व अनुमति के कोई भी जुलूस तथा कार्यक्रम या सार्वजनिक समारोह आयोजित न किए जाएं। इन आयोजनों में हाई रिस्क कैटेगरी जैसे 10 वर्ष की उम्र से कम के बच्चों, 60 वर्ष से अधिक के वृद्धजन तथा कोमोर्बिडिटी अर्थात 1 से अधिक गंभीर बीमारी से ग्रसित व्यक्तियों आदि को शामिल होने से बचाया जाए। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम की अनुमति देने से पूर्व यह सुनिश्चित किया जाए कि आयोजनों में कोविड प्रोटोकोल मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग आदि का पूर्णत: पालन हो।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य पूरी प्रतिबद्धता के साथ किए जाने की जरूरत है, इसके लिए लोगों को प्रोत्साहित व प्रेरित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वैक्‍सीन की बर्बादी हर हाल में रोकी जानी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट आदि में बाहरी आवागमन पर नियंत्रण रखें, उन्‍होंने जेलों में कोविड के दृष्टिगत पर्याप्त सुरक्षा प्रबंध रखने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि पेशी के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का माध्यम अपनाया जाए। पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम का भरपूर उपयोग करते हुए लोगों को जागरूक किया जाए जागरूकता के लिए प्रचार-प्रसार संबंधी सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं।

इस बैठक में स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार सतीश चंद्र द्विवेदी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त संजीव कुमार मित्तल, मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक हितेश जी अवस्थी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा आराधना शुक्ला, अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा मोनिका गर्ग तथा सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।