फ्री डायग्नोस्टिक सर्विस को और प्रभावी बनाने के निर्देश

सिद्धार्थ नाथ सिंह

टेलीमेडिसिन एवं टेलीपैथालॉजी सेवा शीघ्र शुरू करने के निर्देश

सभी हॉस्पिटल और सीएचसी पर पीपीपी मॉडल से जांच होगी : सिद्धार्थ नाथ सिंह

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि सरकारी चिकित्सालयों में उपलब्ध फ्री डायग्नोस्टिक सर्विस को और प्रभावी बनाया जाए। मरीजों के जांच में किसी भी प्रकार की लापरवाही अथवा अनियमितता नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला चिकित्सालयों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर पीपीपी मॉडल के तहत पर तमाम प्रकार की नि:शुल्क जांच की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

मरीजों की जांच में समयबद्धता सुनिश्चित की जाये

स्वास्थ्य मंत्री मंगलवार 4 जुलाई को जनपथ सचिवालय स्थित स्वास्थ्य विभाग के सभागार में सरकारी चिकित्सालयों में फ्री डायग्नोस्टिक सर्विस, टेलीमेडिसन तथा टेलीपैथोलॉजी के संबंध में बैठक कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिए कि मरीजों की जांच में समयबद्धता सुनिश्चित की जाए। साथ ही जांच रिपोर्ट भी ऑनलाइन चिकित्सक को प्रस्तुत की जाए ताकि समय की बचत हो और मरीजों को त्वरित इलाज भी मिल सके। इसके साथ ही विभागीय वेबसाइट पर मरीजों की जांच से संबंधित समस्त जानकारियां भी उपलब्ध कराई जाएं।

एएलएस एम्बुलेंस की सूचना विभागीय डैशबोर्ड पर उपलब्ध हो

श्री सिंह ने टेलीमेडिसिन एवं टेलीपैथालॉजी सेवा शीघ्र शुरू करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि समस्त औपचारिकताएं जल्द पूरी कर ली जाएं, ताकि सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को इसका लाभ मिल सके। उन्होंने निर्देश दिए कि टेली पैथोलॉजी को क्लस्टर के तहत संचालित किए जाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि ‘108’, ‘102’ तथा एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस के संचालन से संबंधित समस्त सूचना विभागीय डैशबोर्ड पर उपलब्ध कराई जाए, ताकि एम्बुलेंस की वास्तविक स्थिति का पता चल सके और लोग एक क्लिक पर एम्बुलेंस की पूरी जानकारी प्राप्त कर सकें।