Wednesday , January 26 2022

लंबित मांगों की पूर्ति के लिए लम्‍बे आंदोलन की शुरुआत धरने से

-डिप्‍लोमा फार्मासिस्‍टों ने प्रदेश के सभी 75 जिलों में सीएमओ कार्यालय पर दिया धरना, 9 दिसम्‍बर से होगा कार्य बहिष्‍कार

सेहत टाइम्‍स
लखनऊ। प्रदेश भर के सभी सी एम ओ कार्यालयों पर धरना, प्रदर्शन और मुख्यमंत्री को ज्ञापन के साथ ही प्रदेश के फार्मेसिस्टों का आंदोलन आज शुरू हो गया । यह जानकारी देते हुए डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन के कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष सुनील यादव ने बताया कि आज सभी 75 जनपदों में जनपद शाखाओं द्वारा आंदोलन की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन मुख्य चिकित्सा अधिकारी के माध्यम से भेजकर 20 सूत्रीय मांगों के न पूरा होने पर अगले आंदोलन की चेतावनी दी गयी, कल से काला फीता बांधकर विरोध दर्ज कराया जायेगा ।


डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप बडोला एवं महामंत्री उमेश मिश्रा ने आज लखनऊ और बाराबंकी के धरने में, संरक्षक के के सचान, आर एन डी द्विवेदी ने लखनऊ में भागीदारी की, संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष उपेंद्र सिंह ने जौनपुर, उपाध्यक्ष राजेन्द्र पटेल ने कानपुर, संगठन मंत्री आर एस राना ने आगरा, संयुक्त मंत्री देवेंद्र कटारा ने मथुरा, कोषाध्यक्ष अजय पांडेय ने लखनऊ, संप्रेक्षक जितेंद्र कटियार ने फर्रूखाबाद में फार्मेसिस्टों को संबोधित किया।


श्री यादव ने कहा कि ज्यादातर मांगों के प्रस्ताव शासन में हैं, पदनाम परिवर्तित कर फार्मेसी अधिकारी किये जाने की मांग पर प्रदेश के सैकड़ों मंत्री, विधायक, सांसद आदि ने संस्तुति पत्र भेजा है, प्रिस्क्रिप्शन का अधिकार के संबंध में भी शासन में पत्रावली संचालित है, इसके साथ ही उच्च पदों के सृजन पर शासन स्तर पर सहमति बन चुकी है, लेकिन शासन का ढीला रवैया और संवादहीनता के कारण फार्मेसिस्टों को आंदोलन का रास्ता अख्तियार करना पड़ा है।


उन्होंने कहा कि 5 दिसम्बर से 8 दिसम्बर तक काला फीता बांधकर विरोध करने के बाद अगर कार्यवाही नही होती है तो 9 दिसम्बर से 2 घंटे कार्य बहिष्कार होगा जो आगे चलकर अनिश्चितकालीन हड़ताल में बदल जायेगा। प्रदेश अध्यक्ष संदीप बडोला, महामंत्री उमेश मिश्रा ने एक बार फिर इस आंदोलन के माध्यम से चेतावनी देते हुए कहा कि ये आंदोलन अब आर पार का है, संघ के सदस्य अब शासनादेश निर्गत होने तक आंदोलन करने के लिए तैयार हैं ।


वहीं डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन शाखा लखनऊ के अध्यक्ष अरुण अवस्थी ने बताया कि अरुण अवस्थी अध्यक्ष डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन शाखा-जनपद-लखनऊ, कपिल वर्मा कार्यकारी अध्यक्ष एवं अखिल सिंह मंत्री के नेतृत्व में मुख्य चिकित्सा अधिकारी जनपद- लखनऊ के कार्यालय पर एक दिवसीय धरना दिया। जिसमें जिले के सभी बड़े चिकित्सालयों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, प्राथमिक केंद्रों एवं अन्य इकाइयों के फार्मासिस्ट संवर्ग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने बड़ी संख्या में भागीदारी की, जिसमें एसोसिएशन ने अपनी 20 सूत्री मांगों को लेकर एक ज्ञापन मुख्य चिकित्सा अधिकारी लखनऊ के माध्यम से मुख्यमंत्री को प्रेषित किया,साथ ही संगठन ने आगे की आंदोलन की चेतावनी भी देते हुए यह स्पष्ट किया कि यदि एसोसिएशन की 20 सूत्री मांगों पर जल्द से जल्द कोई ठोस निर्णय नहीं लिया जाता तो संघ प्रदेश व्यापी हड़ताल के लिए बाध्य होगा जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी शासन व प्रशासन की होगी।

अध्यक्ष ने अवगत कराया की विगत कई वर्षों से माँगे लम्बित हैं, फार्मासिस्ट संवर्ग की मांगों पर शासन के वरिष्ठ अधिकारी गण संवेदनशीलता का परिचय नहीं दे रहे हैं,अनेकों बार हमारी मांगों पर समझौता हो जाने के उपरांत भी शासनादेश निर्गत नहीं किया जा रहा है। फार्मासिस्ट संवर्ग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों का धैर्य अब ज़वाब दे चुका है, अब वक्त है आंदोलन का, फार्मासिस्ट संवर्ग अब अपने आप को ठगा महसूस कर रहा है। धरना कार्यक्रम में डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के प्रान्तीय अध्यक्ष संदीप बड़ोला, जिला मंत्री अखिल सिंह, पूर्व महामंत्री के के सचान एवं श्रवण सचान, सुनील यादव कार्यकारी अध्यक्ष डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश रजत यादव, सुशील त्रिपाठी, एस एम त्रिपाठी, जिला संगठन मंत्री अविनाश सिंह,उपाध्यक्ष सुशील कुमार विद्यार्थी, जिला सयुक्त मंत्री विवेक श्रीवास्तव, कोषाध्यक्ष चन्द्र शेखर श्रीवास्तव, ऑडिटर जितेन्द्र सिंह, रंजीत गुप्ता,अरविंद सिंह, आनंद प्रकाश साहू, राधवेद्र सिंह, पंकज रस्तोगी, संगीता वर्मा, पवन शर्मा, विनोद सोनी सहित बड़ी संख्या में फार्मासिस्ट,चीफ फार्मासिस्ट आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + 9 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.