Wednesday , April 17 2024

इलाज कराने लोहिया संस्‍थान की इमरजेंसी पहुंचे एमएलसी से अभद्रता करने वाला डॉक्‍टर बर्खास्‍त

-इमरजेंसी मेडिकल ऑफीसर को चेतावनी, बड़े अस्‍पतालों में बनेगी वीआईपी हेल्‍प डेस्‍क

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में इलाज कराने आए उत्‍तर प्रदेश विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) ने डॉक्टर पर अभद्रता करने का आरोप लगाया जिसकी शिकायत के बाद डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने घटना को गंभीर से लिया। संस्थान प्रशासन को सदन में तलब किया। डॉक्टर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए। संस्थान प्रशासन ने डॉक्टर को बर्खास्त कर दिया। साथ ही इमरजेंसी ईएमओ को चेतावनी दी गई है।

मिली जानकारी के अनुसार बुधवार की रात करीब 10:30 बजे एक विधान परिषद सदस्य की तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद उनका चालक उन्हें लेकर लोहिया संस्थान की इमरजेंसी में पहुंचा। बताया जाता है कि ड्यूटी पर मौजूद चिकित्सक ने अभद्रता की। इस घटना की शिकायत विधान परिषद सदस्य ने की तो शिकायत का डिप्टी सीएम ने संज्ञान लिया। उन्होंने संस्थान प्रशासन को तलब किया। प्रकरण की जांच के आदेश दिए। आनन-फानन संस्थान प्रशासन ने जांच कराई। जांच में डॉक्टर दोषी पाए गए। डिप्टी सीएम के आदेश के बाद डॉक्टर को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया गया। साथ ही इमरजेंसी ई ईएमओ को चेतावनी दी गई।

अभद्रता करने वालों पर कठोर कार्रवाई की जायेगी

ब्रजेश पाठक ने सदन में कहा कि जनप्रतिनिधियों, जनसामान्य रोगी एवं उनके परिवार से अभद्रता करने वालों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। इसे किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यदि ऐसा कोई भी प्रकरण संज्ञान में आयेगा तो स्वास्थ्य विभाग एवं सरकार की तरफ से दोषियों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी।

बड़े अस्पतालों में हेल्प डेस्क बनायी जाएगी

डिप्टी सीएम ने कहा कि सभी अस्पताल, संस्थानों में जनप्रतिनिधिगण, सांसदगण, विधायकगण, विधान परिषद सदस्यगण के लिए हेल्प डेस्क बनाई जाएगी ताकि इलाज में किसी की असुविधा से बचाया जा सके। हेल्प डेस्क का संचालन 24 घंटे होगा। फिलहाल यह व्यवस्था लखनऊ के प्रत्येक अस्पताल, चिकित्सा संस्थानों में एक अलग से वीआईपी काउन्टर की व्यवस्था की जाएगी। इस काउन्टर में जन संपर्क अधिकारी की तैनाती की जाएगी। यह भी निर्देश दिये गये हैं कि संबंधित संपर्क अधिकारी का नाम एवं उसका मोबाइल नम्बर भी उक्त काउंटर पर भी अंकित किया जाय ताकि जनप्रतिनिधियों द्वारा संपर्क करने पर तत्काल प्रभाव से उनको चिकित्सा संबंधी समस्त सेवायें समय से एवं सुचारु रूप से उपलब्ध करायी जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.