Wednesday , February 8 2023

एपीआई के मेडिसिन अपडेट में पहली बार हिन्‍दी में आर्टिकल प्रकाशित

-एसोसिएशन ऑफ फि‍जीशियन ऑफ इंडिया की अहमदाबाद में होने वाली कॉन्‍फ्रेंस में होगा विमोचन

-गाजियाबाद के एंडोक्राइनोलॉजिस्‍ट डॉ पंकज अग्रवाल ने लिखा है थायरॉयड बीमारी पर आर्टिकल

डॉ गिरीश माथुर

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। एसोसिएशन ऑफ फि‍जीशियन ऑफ इंडिया (एपीआई) ने अपनी वार्षिक पुस्तिका मेडिसिन अपडेट 2023 में पहली बार हिन्‍दी में लिखे आर्टिकल को प्रकाशित किया है। यह आर्टिकल गाजियाबाद के एंडोक्राइनोलॉजिस्‍ट डॉ पंकज अग्रवाल ने लिखा है, जो थायरॉयड की बीमारी पर आधारित है। मेडिसिन अपडेट 2023 को एपीआई की आगामी 26 से 29 जनवरी को अहमदाबाद में होने वाली कॉन्‍फ्रेंस में रिलीज किया जायेगा। कॉन्‍फ्रेंस में पूरे भारत से करीब 6000 डेलीगेट्स के आने की उम्‍मीद की जा रही है। डॉ पंकज अग्रवाल इस आर्टिकल की कॉपी राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल व मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ को भी सौंप चुके हैं।

यह जानकारी एपीआई के प्रेसी‍डेंट इलेक्‍ट डॉ गिरीश माथुर, जो कि इस कॉन्‍फ्रेंस के साइंटिफि‍क चेयरमैन भी हैं, ने देते हुए बताया कि ऐसा पहली बार है जब एपीआई के मेडिसिन अपडेट में हिन्‍दी में आर्टिकल प्रकाशित किया गया है। उन्‍होंने बताया कि हिन्‍दी हमारी राष्‍ट्र भाषा है और इसको उन क्षेत्रों में भी प्रयोग करना, जहां अंग्रेजी का ही अब तक प्रयोग होता आया है, ए‍क स्‍वागतयोग्‍य कदम है। उन्‍होंने कहा कि मेडिकल के क्षेत्र में हिन्‍दी का प्रचलन धीरे-धीरे अपनी जगह बनाना शुरू कर रहा है, इसे प्रोत्‍साहन देने की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि उन्‍हें आशा है कि डॉ पंकज अग्रवाल की इस पहल के बाद दूसरे हिन्‍दी प्रेमी चिकित्‍सक भी आगे आयेंगे और यह सिलसिला जारी रहेगा।

डॉ पंकज अग्रवाल

‘सेहत टाइम्‍स’ ने इस विषय में आर्टिकल के लेखक गाजियाबाद के रहने वाले डॉ पंकज अग्रवाल से भी बात की, डॉ अग्रवाल ने बताया कि वे पिछले छह सालों से मेडिकल साइंस में हिन्‍दी के प्रयोग के लिए मेडिकल कॉन्‍सेप्‍ट इन हिन्‍दी (एमसीएच) अभियान में लगे हुए हैं और अब तक करीब 50,000 डॉक्‍टरों को जोड़ चुके हैं। उन्‍होंने बताया कि उन्‍होंने पिछले दिनों एक किताब थायरॉयड समग्र लिखी थी, जिसका विमोचन मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने किया था। वे मेडिकल साइंस का हिन्‍दी में प्रथम ई रिव्‍यू जर्नल पुनर्नवा भी निकाल रहे हैं, पिछले दिनों इस जर्नल की कॉपी उन्‍होंने राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल को भी सौंपी है।  डॉ पंकज ने बताया कि यह मेडिकल प्रोफेशनल्‍स के साथ ही जनरल पब्लिक के लिए भी बहुत उपयोगी है।

2 comments

  1. Very nice

  2. Hindi hamari Matra bhasha jo Jan Jan tak pahuchegi. Bada hi ucch koti ka kaam hua yeh.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

8 − 5 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.