रिटायर्ड डॉक्‍टर व पैरामेडिकल स्‍टाफ के साथ ही मेडिकल व पैरामेडिकल के छात्रों की भी ली जायेंगी सेवायें

-कोविड उपचार में लगे चिकित्‍सकों के लिए अतिरिक्‍त मानदेय भी तय करने के निर्देश

-मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने दिये निर्देश, सीएम हेल्‍पलाइन से रोज 50 हजार कॉल किये जायें

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा है कि कोविड महामारी से निपटने के लिए अस्पतालों में प्रशिक्षित मानव संसाधन के लिए एक्स सर्विस मैन, सेवानिवृत्त चिकित्सक, आर्मी के रिटायर्ड लोग, अनुभवी पैरामेडिकल स्टाफ, मेडिकल/पैरामेडिकल के अन्तिम वर्ष के छात्र/छात्राओं की सेवाएं ली जायें।

यह जानकारी देते हुए अपर मुख्‍य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि इसके लिए मुख्यमंत्री द्वारा निर्देश दिया गया है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने कोविड उपचार में लगे चिकित्सकों को अतिरिक्त मानदेय तय करने के लिए भी कहा है। श्री सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये हैं कि सीएम हेल्पलाइन से प्रतिदिन 50 हजार लोगों को कॉल किये जायें। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य मंत्री को यह जिम्मेदारी दी है कि वे यह सुनिश्चित करें कि प्रदेश में 02 लाख 41 हजार कोविड मरीज होम आइसोलेशन मरीजों को मेडिसिन किट मिले, उनका हालचाल लिया जाये तथा कोविड से सम्बन्धित उपचार की जानकारी भी उपलब्ध करायी जाये।

उन्‍होंने बताया कि प्रत्येक जनपद में टेली कंसल्टेशन के लिए सम्बन्धित चिकित्सालयों के चिकित्सकों के नम्बर आम जनता के लिए प्रदर्शित किये जायें। उन्होंने बताया कि प्रत्येक जनपद में सम्बन्धित चिकित्सालयों के चिकित्सकों के नम्बर उपलब्ध कराये गये हैं, जिससे कोविड से सम्बन्धित मरीज फोन के माध्यम से सलाह ले सकते हैं। उन्होंने बताया कि कोविड नियंत्रण के लिए प्रदेश स्तर पर बनी टीम-9 के तर्ज पर विकेन्द्रीकृत करते हुए जनपदों मे हर काम के लिए अलग अधिकारी नियुक्त किया जाये जिससे आम जनता को लाभ पहुंचेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में आज 94,559 कन्टेनमेंट जोन में 1303 थाने हैं जिसमें 2 लाख 45 हजार कोरोना पॉजिटिव लोग है।