शोध को मिलेगा नया आयाम, केजीएमयू और न्‍यूयार्क के विश्‍वविद्यालय के बीच समझौता

न्‍यूयार्क की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी में अध्‍ययनरत हैं 30 हजार से अधिक विद्यार्थी

लखनऊ। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय लखनऊ और बफेलो स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क ( यू. एस. ए) के बीच आज एक समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किये गये। इस समझौते के तहत दोनों संस्थानों के शोधार्थी एवं संकाय सदस्य एक दूसरे के संस्थान में जाकर शोध का कार्य कर सकेंगे।

 

चिकित्सा क्षेत्र में व्यापक शोध एवं दवाओं को समझने के लिए विविध आबादी का होना अति आवश्यक है। इस समझौते से दोनों संस्थानों के शोधार्थियों को एक दूसरे के संस्थानों में कार्य करने का अवसर तो मिलेगा ही साथ ही साथ चिकित्सा के क्षेत्र में नए आयामों को जोड़ा भी जाएगा। प्रारंभ में यह समझौता 5 वर्षों के लिए किया जा रहा है जो भविष्य में आगे बढ़ेगा। बफेलो स्टेट यूनिवर्सिटी,न्यू यॉर्क की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी है जिसमें 30,000 से अधिक विद्यार्थी अध्ययनरत हैं तथा करीब 5,000 विद्यार्थी विभिन्न देशों से अध्ययन के लिए आते हैं । भारत से 1,600 विद्यार्थी बफेलो यूनिवर्सिटी में अध्ययनरत हैं। इस समझौता पत्र किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर मदनलाल भट्ट एवं यूनिवर्सिटी ऑफ बफैलो स्टेट यूनिवर्सिटी, न्यूयॉर्क के प्रेजिडेंट प्रोफेसर सतीश के. त्रिपाठी द्वारा हस्ताक्षर किये गये हैं।