Monday , June 27 2022

कोविड मरीज को भर्ती न किया गया तो जवाबदेही सेक्‍टर अधिकारियों की

-लखनऊ को 24 सेक्‍टरों में बांटा गया, सेक्‍टर मजिस्‍ट्रेट व सेक्टर मेडिकल ऑफिसर की तैनात

अभिषेक प्रकाश

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। कुछ अस्पतालों द्वारा बेड होने के बावजूद मरीजों को भर्ती नहीं किये जाने की समस्या से निपटने के लिए लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश द्वारा जनपद को 24 सेक्टर में बांटकर प्रत्येक सेक्टर में चिकित्‍सा अधिकारियों तथा प्रशासनिक अधिकारियों की जिम्मेदारी तय कर दी है ऐसी स्थिति में संबंधित क्षेत्र के व्यक्ति को भर्ती कराने की जिम्मेदारी इन्हीं अधिकारियों की मानी जाएगी।

जिलाधिकारी द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि मुख्य सचिव के निर्देशों के क्रम में यह देखा जा रहा है कि जनपद में कोविड पॉजिटिव मरीजों की बढ़ती संख्या में भी कुछ अस्पतालों में बेड की उपलब्धता होने के उपरांत भी मरीजों को भर्ती होने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में जनपद को 24 सेक्टर में विभाजित करते हुए सेक्टर मजिस्ट्रेट एवं सेक्टर मेडिकल ऑफिसर तैनात किए जा रहे हैं, जो अपने सेक्टर के अंतर्गत आने वाले सभी कोविड चिकित्सालय में मरीजों को दाखिल करायेंगे तथा यह भी सुनिश्चित कराएंगे कि किसी भी मरीज को कोई कठिनाई न हो। आदेश में कहा गया है कि किसी भी सेक्‍टर से अगर भर्ती न होने का समाचार मिलता है तो इसकी व्‍यक्तिगत जिम्‍मेदारी तैनात किये जा रहे सेक्‍टर अधिकारियों की होगी।

जनपद को जिन 24 सेक्टर में बांटा गया है उनमें माल, मलिहाबाद, काकोरी, गोसाईगंज, मोहनलालगंज, नगराम, बीकेटी, इटौंजा, गुडंबा, अलीगंज, चिनहट, सरोजिनी नगर, कैसरबाग, इंदिरा नगर, आलमबाग, ऐशबाग-टूडि़यागंज, नवल किशोर रोड, सिल्वर जुबली, जानकीपुरम, गोमती नगर चौक, कैंट, आशियाना और गोमती नगर विस्तार हैं।