Thursday , January 20 2022

धुआंधार अभियान : 14 दिनों में छिपे हुए टीबी के 154 मरीज और खोजे

-10 से 23 अक्टूबर तक चला सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान
-5.30 लाख के सापेक्ष 6.07 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की गयी
-अभियान के छह चरणों में अब तक 688 रोगी खोजे जा चुके

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ पुनरीक्षित राष्ट्रीय क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम (आरएनटीसीपी) के अंतर्गत जिले में 10 से 23 अक्टूबर तक सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान (एसीएफ) चलाया गया। अभियान के दौरान जिले में 154 नए टीबी मरीजों की पहचान की गयी है, जिनका इलाज शुरू कर दिया गया है। जिले में अब तक एसीएफ के छह चरण संचालित किए जा चुके हैं और सभी चरणों में करीब 31.23 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की गयी जिसमें 1,2809 लोगों में क्षय रोग के लक्षण पाये गए और जांच के उपरांत 688 क्षय रोगी घोषित हुये जिनको कार्यक्रम के तहत उपचार पर रखा गया है और लगातार उनकी मॉनिटरिंग की जा रही है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने बताया – हमारा लक्ष्य करीब 5.30 लाख लोगों की स्क्रीनिंग करना था लेकिन हमने लक्ष्य से अधिक 6.07 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की। अभियान के दौरान 1806 लोगों के बलगम के नमूने लिए गए, जिनमें 154 लोगों में टीबी की पुष्टि हुई है। इन सभी 154 रोगियों का इलाज शुरू किया चुका है और सभी को निक्षय पोषण योजना के तहत पंजीकृत भी किया जा चुका है।

जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. बी.के. सिंह ने बताया- एसीएफ के तहत 53 सुपरवाइजर तथा 265 टीमें लगाई गयी थीं जिन्होने घर-घर जाकर लोगों की स्क्रीनिंग की। डॉ. सिंह ने बताया सर्वाधिक 29 रोगी रानी लक्ष्मीबाई जिला अस्पताल क्षेत्र से चिन्हित किए गए। ठाकुरगंज टीबी अस्पताल परिक्षेत्र से 27 व सरोजिनी नगर कैंट और सिविल क्षेत्र से 8 रोगी चिन्हित किए गए। डॉ॰ सिंह ने बताया एसीएफ नोडल दिलशाद हुसैन, रामजी वर्मा, फहीम अहमद, अभय चन्द्र मित्रा एवं लोकेश वर्मा सहित सभी ने अपने कार्य एवं दायित्व को भली भांति निभाकर इस अभियान को सफल बनाया।