Tuesday , July 16 2024

कोरोना अलर्ट : जनता के साथ ही चिकित्‍सक भी डॉ गौतम की मौत से सबक लें

-संजय गांधी पीजीआई आरडीए ने शोक सभा आयोजित कर दी श्रद्धांजलि

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। संजय गांधी पीजीआई की रेजीडेंट्स डॉक्‍टर एसोसिएशन (आरडीए) ने अम्‍बेडकर नगर के महात्मा ज्योतिबा फुले संयुक्त जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. एस पी गौतम की कोरोना से हुई मौत पर गहरा शोक जताते हुए कहा है कि आज हमने भारत माता के इस वीर को कोरोना महामारी से लड़ते-लड़ते गंवा दिया।

एसोसिएशन के अध्‍यक्ष डॉ आकाश माथुर व महासचिव डॉ अनिल गंगवार ने यहां जारी विज्ञप्ति में डॉ गौतम की मृत्‍यु पर शोक जताते हुए आमजन से अपील की है कि डॉ एसपी गौतम की शहादत से आम जनता और समस्त चिकित्सकों को चेतने की आवश्यकता है।

इन डॉक्‍टरों ने कहा कि सरकार ने भले ही लॉक डाउन खोल दिया है लेकिन अपनी तरफ से कोताही बिल्कुल ना बरती जाए, सभी को भीड़भाड़ लगाने से और भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में जाने से बचना चाहिए, मास्क पहनने में किसी तरह का संकोच नहीं करना चाहिए। जो वयस्क लोग हैं साथ में जिन्हें शुगर गुर्दे और हृदय की बीमारियां हैं उन्हें विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

शोक संदेश में चिकित्‍सकद्वय ने कहा है कि कोरोना योद्धा डॉ एसपी गौतम के निधन से संपूर्ण समस्त चिकित्सा जगत आहत है। डॉ साहब की आत्मा की शांति के लिए आरडीए एसजीपीजीआई, सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए शोक सभा का आयोजन किया। उन्‍होंने कहा कि कोरोना में ड्यूटी होने के कारण डॉ एसपी गौतम के चिकित्सीय टीम का हम लोग भी हिस्सा रहे।

विज्ञप्ति में कहा है कि डॉ गौतम को शुगर पहले से ही थी, जो कि वर्तमान में बहुत ही अनियंत्रित थी, कोरोना के कारण जिस तरह से रेस्पिरेट्री फैलियर हुआ और लगातार शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम होती गई जिसके कारण डॉक्टर साहब को वेंटिलेटर पर लेना पड़ा।  

चिकित्सकों की ओर से बढ़ते इन्फेक्शन और शॉक को नियंत्रित करने का अथक प्रयास किया गया लेकिन सफलता नहीं मिली। एसोसिएशन भगवान से इस महान आत्मा को शांति प्रदान करने की प्रार्थना करती है।