Saturday , January 28 2023

कैंसर रोगियों की देखभाल कैसे करें, फोन पर बतायेगा कल्‍याण सिंह कैंसर संस्‍थान

-वर्ल्‍ड हॉसपाइस एंड पैलिएटिव केयर डे पर शुरू हुई पैलिएटिव केयर टेली परामर्श सेवा

-भर्ती मरीजों के तीमारदारों को एक भोजन देगा इनरव्‍हील लखनऊ अभ्‍युदय

WHPCA के इवेंट वर्ल्‍ड मैप 2022 में दर्ज होने वाला यूपी का अकेला  संस्‍थान  

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। वर्ल्‍ड हॉसपाइस एंड पैलिएटिव केयर डे पर राजधानी लखनऊ स्थित कल्याण सिंह सुपर स्पेशियलिटी कैंसर संस्थान में पैलिएटिव केयर की दिशा में एक नया अध्‍याय जुड़ गया है, अब यहां इलाज करा रहे मरीजों को घर पर रहकर भी प्रत्‍येक कार्यदिवस पर पैलिएटिव केयर संबंधी टेली परामर्श सेवा उपलब्‍ध रहेगी। इससे दूरदराज में रहने वाले मरीजों और उनकी देखभाल करने वाले लोगों को बार-बार संस्‍थान आने की दौड़ बच जायेगी। इसके साथ ही संस्थान का यह अवेयरनेस एवं साइकोलॉजिकल सपोर्ट कार्यक्रम WHPCA  (Worldwide Hospice Palliative Care Alliance) United Kingdom द्वारा इवेंट वर्ल्ड मैप 2022 पर अंकित किया गया है, यह संस्‍थान पूरे उत्तर प्रदेश का इकलौता संस्‍थान है जो इवेंट वर्ल्ड मैप 2022 पर अंकित है। इसके अतिरिक्‍त अस्‍पताल में भर्ती रोगियों के तीमारदार को भी एक समय का भोजन फ्री उपलब्ध कराने के लिए इंटरनेशनल इनरव्‍हील लखनऊ अभ्‍युदय ने हाथ बढ़ाया है। मरीज को संस्‍थान की तरफ से फ्री भोजन उपलब्‍ध कराने का प्रावधान है।

संस्‍थान द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार शुक्रवार को इंटरनेशनल इनर व्हील, लखनऊ अभ्युदय  के सहयोग से वर्ल्ड हॉसपाइस एण्ड पैलियेटिव केयर डे के अवसर पर एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ संस्थान के निदेशक प्रो आरके धीमन द्वारा कार्यक्रम दीप प्रज्ज्वलन कर किया गया।

प्रो धीमन ने दूर-दराज और ग्रामीण अंचलों के रोगियों के लिए सिर्फ पैलियेटिव केयर के लिए टेली परामर्श सेवा का शुभारम्भ किया। इस सेवा के माध्यम से शहरी एवं ग्रामीण अंचलों मे निवास करने वाले लोग मोबाइल फोन के माध्यम से संस्थान से सम्पर्क कर सीधे परामर्श प्राप्त कर सकेंगे। यह सेवा उन रोगियों के लिए विशेषकर लाभप्रद होगी जो रोगी या परामर्श प्राप्‍तकर्ता यात्रा करने में असमर्थ हैं। इस सेवा से प्रारम्भ होने से सम्पूर्ण प्रदेश ही नही अपितु देश के किसी भी कोने से संस्थान से पैलियेटिव केयर के लिए उपचार ले रहे कैंसर रोगियों को सहूलियत होगी। यह सेवा समस्त कार्यदिवसों में प्रातः 9 बजे से सायं 5 बजे तक उपलब्ध रहेगी। लाभार्थी संस्थान की वेबसाइट से पैलियेटिव केयर टेली कन्सलटेशन का नम्बर प्राप्त कर सकेंगे।

प्रो धीमन ने कहा कि दुनिया भर में वर्ल्ड हॉसपाइस एण्ड पैलियेटिव केयर दिवस मनाये जाने का विशेष महत्व है। प्रो धीमन ने कहा कि कुशल पैलियेटिव केयर सेवाएं प्रदान करने के लिए कुशल स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता, दर्द को रोकने के लिए दवाएं,  गुणात्मक हासपाइस एवं और पैलियेटिव केयर केंद्र तथा प्रभावी राष्ट्रीय नीतियां आवश्‍यक है। संस्थान गुणवत्‍तापरक पैलियेटिव केयर सेवायें प्रदान करने के लिए प्रतिबद्धता से कार्यरत है।

जल्‍द ही शुरू होगा पैलिएटिव केयर वार्ड

इस मौके पर प्रो धीमन ने संस्थान की प्रगति एवं  पैलियेटिव केयर सेवाओं की उपलब्धियों के बारे में बताया कि सहायक आचार्य एनेस्थीसियोलॉजी डॉ हिमांशु प्रिंस को नवंबर 2021 में फैकल्टी इंचार्ज पैलियेटिव केयर के रूप में नामित किया गया था। इसके बाद पैलियेटिव केयर विभाग सक्रिय किया गया दिसंबर 2021 में संस्थान ने नारकोटिक्स लाइसेंस प्राप्त किया जिससे कैंसर के दर्द के इलाज के लिए टैब मॉर्फिन एवं अन्य दर्द निवारक दवाइयां आसानी से उपलब्ध हो गयीं। जुलाई-अगस्त 2022 के महीने में चार चरणों में नर्सों और पैरामेडिकल स्टाफ के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित किया गया है। रोगियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए संस्थान में बहुत जल्द अलग उपशामक देखभाल वार्ड शुरू किया जायेगा।

कार्यक्रम के सचिव डॉ हिमांशु प्रिंस ने कहा कि हर जगह,  हर किसी की पैलियेटिव केयर सेवाओं तक पहुंच होनी चाहिए। कार्यक्रम में संस्थान के फैकल्टी, स्टाफ और मरीजों के साथ देखभाल करने वालों ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

2 + fourteen =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.