Wednesday , October 5 2022

बिना दस्‍ताने पहने न लगायें इंजेक्‍शन-वीगो और न ही करें ड्रेसिंग

-विश्‍व हेपेटाइटिस डे पर नर्सिंग एवं पैरामेडिकल स्‍टूडेंट्स को किया गया जागरूक

-होप इनिशिएटिव, आईएमए व निर्वाण हॉस्पिटल के संयुक्‍त तत्‍वावधान में आयोजित हुआ कार्यक्रम

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। रक्‍त से फैलने वाली संक्रमित बीमारी हेपेटाइटिस बी एवं हेपेटाइटिस सी के संक्रमण से फ्रंट लाइनर नर्स एवं पैरामेडिकल स्‍टाफ को बचाने के लिए इन जानलेवा बीमारियों के प्रति जागरूक करने का मुख्‍य उद्देश्‍य लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, होप इनिशिएटिव व निर्वाण हॉस्पिटल के संयुक्‍त तत्‍वावधान में विश्‍व हेपे‍टाइटिस दिवस पर यहां आईएमए भवन पर एक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें लखनऊ के अनेक नर्सिंग कॉलेज के स्‍टूडेंट्स ने हिस्‍सा लिया।

इस मौके पर आईएमए के संयुक्‍त सचिव व निर्वाण हॉस्पिटल के निदेशक डॉ प्रांजल अग्रवाल ने बड़े ही रोचक तरीके से अपने सम्‍बोधन के माध्‍यम से उपस्थित नर्सिंग स्‍टूडेंट्स को न सिर्फ नर्सिंग के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में जानकारी दी बल्कि बीच-बीच में अपने प्रश्‍नों के माध्‍यम से विद्यार्थियों को इस विषय की जानकारी के बारे में परखा। डॉ प्रांजल ने कहा कि किसी भी सूरत में नर्सिंग या पैरामेडिकल स्‍टाफ को अपनी जान को जोखिम में नहीं डालना है। उन्‍होंने कहा कि जिस मरीज के उपचार के लिए आप जो भी कार्य करते हैं उनमें पूरी तरह सावधानी बरतनी चाहिये। उन्‍होंने कहा कि चूंकि अस्‍प्‍ताल में आने वाले मरीज के शरीर में संक्रमण है अथवा नहीं, इसके बारे में हमें नहीं पता होता है, ऐसे में सभी मरीजों को इंजेक्‍शन लगाते समय, वीगो डालते समय, ड्रेसिंग करते समय हाथों में दस्‍तानों का इस्‍तेमाल अवश्‍य करें। प्रत्‍येक मरीज के लिए डिस्‍पोजेबिल सीरिंज का ही प्रयोग करें। यदि इंजेक्‍शन लगाते समय आपको सुई चुभने से इंजरी हो जाये तो इंफेक्‍शन कंट्रोल नर्स व इंफेक्‍शन कंट्रोल ऑफीसर को सूचना दें।

डॉ प्रांजल ने कहा कि आपको मरीज सिस्‍टर या ब्रदर का दर्जा देता है, इसका अर्थ है कि मरीज आप पर उतना ही विश्‍वास करता है जितना वह अपने भाई-बहन पर करता है, इसलिए ऐसे में आपकी यह जिम्‍मेदारी बनती है कि आपको यह पता होने के बावजूद कि मरीज संक्रमित है, फि‍र भी आपको उसका इलाज करना है, और इसीलिए कहा जाता है कि अपनी पूरी सावधानी बरतते हुए आपको इलाज करना है। इस सम्‍बन्ध में उन्‍होंने मंच पर मौजूद आईएमए लखनऊ के मुख्‍य प्रवक्‍ता व लखनऊ हेरिटेज हॉस्पिटल के एमडी डॉ वीरेन्‍द्र यादव का उदाहरण देते हुए कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान जब सब तरफ हायतौबा मची हुई थी, प्रत्‍येक भर्ती प्रोटोकाल के तहत सेंट्रल कमांड से हो रही थी, यहां तक कि चिकित्‍सकों के संक्रमित होने पर भी उनके इलाज के लिए भी भर्ती होना दुश्‍कर हो रहा था, उस समय डॉ वीरेन्‍द्र यादव ने किसी भी चिकित्‍सक का फोन पहुंचा, उसे मना नहीं किया, और अपने अस्‍पताल में इलाज किया।

उन्‍होंने कहा कि आप लोगों की यह भी जिम्‍मेदारी है कि नशे को किसी प्रकार का बढ़ावा न दें, न ही खुद करें और अगर कोई दूसरा करता है तो उसे समझाएं और साथ ही उसे नशे से छुटकारा पाने में मदद के लिए मनोचिकित्‍सक के पास जाने की सलाह दें।

इस मौके पर आईएमए लखनऊ के मुख्‍य प्रवक्‍ता व लखनऊ हेरिटेज हॉस्पिटल के एमडी डॉ वीरेन्‍द्र यादव ने आईएमए के साथ मिलकर इस जागरूकता कार्यक्रम के आयोजन के लिए होप इनिशिएटिव को धन्‍यवाद दिया। उन्‍होंने स्‍टूडेंट्स से कहा कि आप प्रत्‍येक मरीज को पॉजिटिव मानते हुए एचआईवी, हेपेटाइटिस जैसे संक्रमणों में बरती जाने वाली सावधानियों को अपना कर ही उनका उपचार करें। कोरोना काल में उनके द्वारा की गयी सेवाओं के बारे में डॉ प्रांजल अग्रवाल के कथन के संदर्भ में उन्‍होंने कहा कि मैंने यह सब अपना फर्ज समझ कर किया। उन्‍होंने कहा‍ कि चिकित्‍सक जो फ्रंटलाइनर हैं, कोविड के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं उन्‍हें बचाने की इस तरह की इमरजेंसी की स्थिति से निपटने के लिए मैंने अपना योगदान किया, इसके लिए मैंने अथॉरिटी को सूचित भी कर दिया था।

इस मौके पर होप इनेशिएटिव के प्रोजेक्‍ट हेड राजेश ओझा ने अपने सम्‍बोधन में विश्‍व हेपेटाइटिस दिवस मनाने के बारे में बताते हुए अपनी प्रस्‍तुति दी। होप इनिशिएटिव की ओर से डॉक्‍यूमेंट्री मूवी ‘एक प्रयास जिन्‍दगी की ओर’ दिखायी गयी। एमएस कॉलेज ऑफ नर्सिंगंग और एरा कॉलेज ऑफ नर्सिंग के छात्रों द्वारा स्किट परफॉर्मेंस के माध्‍यम से हेपेटाइटिस पर संदेश दिया गया। बड़ी संख्‍या में छात्रों द्वारा हेपेटाइटिस के प्रति जागरूक करते हुए पोस्‍टर तैयार किये गये थे, जिन्‍हें इन स्‍टूडेंट्स ने दिखाते हुए इसके बारे में जानकारी भी दी। इस मौके पर जादूगर शहनवाज जो कि हेपेटाइटिस के शिकार हो चुके हैं, ने जादू दिखाकर मनोरंजन किया वहीं अपने अनुभव को साझा करते हुए होप इनिशिएटिव के संस्‍थापक डॉ जी चौधरी द्वारा किये गये हेपेटाइटिस के इलाज के बारे में उपस्थित लोगों को बताया।   

Leave a Reply

Your email address will not be published.

11 − four =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.