Friday , October 22 2021

अपने शिशु को Golden Hour में स्तनपान के प्रथम टीके से वंचित मत रखिये

माँ के प्रथम दूध में मौजूद पोषक तत्व और एंटीबॉडी बच्चे को बनाते हैं दीर्घजीवी और निरोगी

फोटो साभार इंडिया पोस्ट

लखनऊ. शिशु के जन्म के बाद का पहला घंटा शिशु के जीवन भर के लिए Golden Hour होता है. इस अवधि के अन्दर शिशु को माँ का दूध पिलाना अति आवश्यक है, पहले घंटे के अन्दर स्तनपान का महत्व यह है कि यह प्रथम टीका के रूप में कार्य करता है. लेकिन अभी भी करीब 25 प्रतिशत माएं जन्म के एक घंटे के अन्दर शिशु को स्तनपान नहीं करा रही हैं. इसकी बड़ी वजह चिकित्सा विभाग के कर्मियों और परिवारीजनों से सहयोग न मिलना है. यूनीसेफ और विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट बताती है कि उत्तर प्रदेश में औसतन 25 प्रतिशत बच्चे जन्म के एक घंटे के अन्दर माँ का स्तनपान नहीं कर पा रहे हैं जबकि माँ के प्रथम दूध में मौजूद पोषक तत्व और एंटीबॉडी बच्चे को दीर्घजीवी और निरोग बनाने में “प्रथम टीके” की तरह कार्य करते हैं. जन्म के प्रथम घंटे में स्तनपान से वंचित बच्चों में बीमारी की संभावना अधिक होती है और उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बहुत कम होती है.

 

यह जानकारी उत्तर प्रदेश की सचिव, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण वी. हेकाली झिमोमी ने विश्व स्तनपान दिवस की पूर्व संध्या पर आज 31 जुलाई को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तरप्रदेश मुख्यालय के राज्य कार्यक्रम प्रबन्धन इकाई सभागार में एक प्रेस कांफ्रेंस में दी. उन्होंने बताया कि “मां को जन्म के बाद उन महत्वपूर्ण मिनटों में स्तनपान कराने के लिए चिकित्सा विभाग के कर्मियों और परिवारीजनों से पर्याप्त समर्थन नहीं मिलता है। प्रसव के उपरान्त देखभाल की गुणवत्ता में सुधार के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सहयोग से समुदाय और स्वास्थ्य इकाई दोनों स्तरों पर स्तनपान कराने के प्रचारकार्य में सक्रियता जारी है। राज्य चिकित्सा महाविद्यालयों के साथ साझेदारी में स्वास्थ्य इकाई स्तर पर प्रत्येक नवजात को स्तनपान कराने के लिए एक राज्यव्यापी प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

 

महाप्रबंधक बाल स्वास्थ्य राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तरप्रदेश डा अनिल कुमार वर्मा ने बताया कि एन.एच.एम. के प्रदेश में स्तनपान के प्रचार के लिए कार्यक्रम चलाया जा रहा है. राज्य ने सभी 75 जिलों में प्रशिक्षकों का एक पूल बनाया है और कार्यक्रम स्केलिंग धीरे-धीरे प्रगति पर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के 76 देशों के आंकड़ों का विश्लेषण करने पर यह पता चलता है कि शीघ्र स्तनपान कराने की शुरुआत के महत्व के बावजूद, कई नवजात शिशु अलग-अलग कारणों से बहुत लंबे समय तक इंतजार कर रहे हैं.

 

माताओं और नवजात बच्चों को प्रदान की जाने वाली देखभाल की गुणवत्ता में अंतरः 2005 और 2017 के बीच 58 देशों में, स्वास्थ्य संस्थानों में प्रसव 18 प्रतिशत अंक बढ़ गया, जबकि शुरुआती दीक्षा दर 6 प्रतिशत की वृद्धि हुई। कई मामलों में, जन्म के तुरंत बाद बच्चों को उनकी मां से अलग किया जाता है और स्वास्थ्य कर्मियों से मार्गदर्शन सीमित होता है।

 

अपर मिशन निदेशक निखिल चन्द्र शुक्ल ने कहा कि रिपोर्ट में उद्धृत किए गए पहले के अध्ययनों से पता चलता है कि जिन नवजात शिशुओं ने जन्म के दो से 23 घंटे के बीच स्तनपान शुरू किया था, उनमें जन्म के एक घंटे के भीतर स्तनपान शुरू करने वालों की तुलना में मृत्यु का 33 प्रतिशत अधिक जोखिम था। जन्म के बाद एक दिन या उससे अधिक स्तनपान कराने वाले नवजात बच्चों में, जोखिम दो गुना से अधिक था। रिपोर्ट में सरकारों, दाताओं और अन्य निर्णय निर्माताओं से शिशु फार्मूला और अन्य स्तनपान विकल्पों के विपणन को प्रतिबंधित करने के लिए मजबूत कानूनी उपायों को अपनाने का आग्रह किया गया है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − four =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.